"कंस": अवतरणों में अंतर

145 बैट्स् जोड़े गए ,  2 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
(Aviram7 (वार्ता) के अवतरण 5461043 पर पुनर्स्थापित : Reverted to the best version)
टैग: ट्विंकल किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
No edit summary
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
{{स्रोत कम}}{{आधार}}
[[चित्र:Krishna Overcomes Kamsa, Prambanan 1077.jpg|अंगूठाकार|कृष्ण और कंस का युद्ध]]
[[चित्र:KRISHNA KILLS KANSA.jpg|अंगूठाकार|[[कृष्ण]] रूपी [[विष्णु]] द्वारा कंस का वध किया गया]]
'''कंस''' [[हिन्दू पौराणिक कथाएँ]] अनुसार [[चंद्रवंशी]] यादव राजा था जिसकी राजधानी [[मथुरा]] थी। वह भगवान [[कृष्ण]] की मां [[देवकी]] का भाई था। कंस को प्रारंभिक स्रोतों में मानव और पुराणों में एक [[दैत्यदानव]] के रूप में वर्णित किया गया है। कंस का जन्म चंद्रवंशी क्षत्रिय यादव राजा [[उग्रसेन]] और रानी पद्मावती के यहाँ हुआ था। हालांकि महत्वाकांक्षा से और अपने व्यक्तिगत विश्वासियों, [[बाणासुर]] और [[नरकासुर]] की सलाह पर, कंस ने अपने पिता को अपदस्थ किया और मथुरा के राजा के रूप में खुद को स्थापित किया किन्तू वो अपनी बहन से बहुुत स्नेह रखता था.<ref>{{cite news |title=इतिहास कहता है कि कंस देवकी का सगा भाई नहीं था... |url=https://hindi.oneindia.com/art-culture/kansa-was-not-real-brother-maa-devaki-418003.html |accessdate=3 जून 2018 |work=[[वन इंडिया]] |date=10 अगस्त 2017|language=hi |archive-url=https://web.archive.org/web/20170810033206/http://hindi.oneindia.com/art-culture/kansa-was-not-real-brother-maa-devaki-418003.html |archive-date=10 अगस्त 2017 |url-status=dead }}</ref>कंस ने [[मगध महाजनपद|मगध]] के राजा [[जरासन्ध]] की बेटियों [[अस्ति ( जरासंध कन्या )|अस्ति]] और [[प्राप्ति ( जरासंध कन्या )|प्राप्ति]] से विवाह करने का फैसला किया और अपनी बहन का विवाह अपने सामांत चंद्रवंशी क्षत्रिय वासुदेव के साथ तय कर दी।<ref>{{Cite web|url=https://www.jagran.com/spiritual/religion-kans-vadh-date-interesting-facts-about-kans-19724562.html|title=Kans Vadh: भगवान श्रीकृष्ण ने आज ही किया था कंस का वध, जानें उससे जुड़ी ये 10 बातें|website=Dainik Jagran|language=hi|access-date=2021-08-01}}</ref>
 
जब कंस अपनी बहन देवकी के विवाह के उपरान्त, उन्हे रथ मे बिठा कर विदा कर रहे थे उसी समय आकाशवाणी हुई कि देवकी का आठवां पुत्र उसकी मृत्यु का कारण बनेगा। इसलिये उसने देवकी और उनके पति [[वसुदेव]] को कारागार मे डाल दिया। कंस ने माता देवकी के छः पुत्रों को मार डाला। (बलराम इनकी सातवीं सन्तान थे।) <ref>{{cite news |last1='शतायु' |first1=अनिरुद्ध जोशी |title=कौन थे कृष्ण के पांच बड़े शत्रु, जानिए |url=http://hindi.webdunia.com/sanatan-dharma-history/lord-krishna-s-enemy-114051500052_1.html |work=[[वेबदुनिया]] |language=en |access-date=3 जून 2018 |archive-url=https://web.archive.org/web/20180626005047/http://hindi.webdunia.com/sanatan-dharma-history/lord-krishna-s-enemy-114051500052_1.html |archive-date=26 जून 2018 |url-status=dead }}</ref> हालांकि आठवें पुत्र भगवान [[विष्णु]] के अवतार कृष्ण को [[गोकुल]] ले जाया गया, जहां उन्हें गोकुल के यादवकुल के मुखिया व वासुदेव के भाई [[नन्द बाबा|नंद]] की देखभाल में पाला गया था । कंस ने कृष्ण को मारने के लिए कई असुरों को भेजा, जिनमें से सभी का कृष्ण द्वारा वध कर दिया गया। अंत में, कृष्ण अक्रूर जी के साथ मथुरा पहुँचते हैं और अपने मामा कंस का वध करते हैं तथा अपने माता पिता को कारावास से मुक्त कराया गया। कंस वध के बाद भी भगवान ने कई लीलाएं की जो जीवों को मोक्ष देने के लिए हितकारी हैं।<ref>{{Cite web|url=https://www.jansatta.com/religion/kans-vadh-2019-kans-vadh-story-katha-krishna-kans-vadh-story/1213283/|title=कार्तिक शुक्ल दशमी को हुआ था कंस का वध, जानिए इससे जुड़ी कुछ रोचक बातें|date=2019-11-07|website=Jansatta|language=hi|access-date=2021-08-01}}</ref>
बेनामी उपयोगकर्ता