"सैनिक कानून": अवतरणों में अंतर

358 बाइट्स जोड़े गए ,  5 माह पहले
छो
2409:4053:61B:3A62:FFF6:C447:13EC:88E3 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2409:4064:2E2A:F3AD:0:0:9408:BF08 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(तगमतथ)
टैग: Reverted यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2409:4053:61B:3A62:FFF6:C447:13EC:88E3 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2409:4064:2E2A:F3AD:0:0:9408:BF08 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
वइशेषविशेष परिस्थितियों में जब किसी देश की न्याय व्यवस्था को सेना अपने हाथ में ले लेती है, तब जो नियम प्रभावी होते हैं उन्हें '''सैनिक कानून''' या मार्शल लॉ (Martial law) कहा जाता है। कभी-कभी युद्ध के समय अथवा किसी क्षेत्र को जीतने के बाद उस क्षेत्र में मार्शल लॉ लगा दिया जाता है। उदाहरण के लिये [[द्वितीय विश्वयुद्ध|द्वितीय विश्व युद्ध]] के बाद [[जर्मनी]] और [[जापान]] में मार्शल लॉ लागू किया गया था। इसके अलावा प्राय: [[तख़्ता पलट|तख्ता पलट]] के बाद भी मार्शल लॉ लगा दिया जाता है। कभी-कभी बहुत बड़ी [[प्राकृतिक आपदा]] आने पर भी मार्शल लॉ लगा दिया जाता है (किन्तु अधिकांश देश इस स्थिति में [[आपातकाल (भारत)|आपातकाल]] (इमर्जेंसी) लागू करते हैं।)
 
मार्शल ला के अंतर्गत (अन्तर्गत) [[कर्फ्यू]] (curfew) आदि विशेष कानून होते हैं। प्राय: मार्शल लॉ के अंतर्गत (अन्तर्गत) न्याय देने के लिये सेना का एक ट्रिब्यूनल नियुक्त किया जाता है जिसे [[सैन्य न्यायालय|कोर्ट मार्शल]] कहा जाता है। इसके अन्तर्गत [[बन्दी प्रत्यक्षीकरण|बन्दी प्रत्यक्षीकरण याचिका]] जैसे अधिकार निलंबित (निलम्बित) किए जाते हैं।