"बस्ती जिला": अवतरणों में अंतर

143 बैट्स् नीकाले गए ,  1 माह पहले
2409:4042:4e85:a95f::e708:a309 के सम्पादनों को हटाया (अजीत कुमार तिवारी के पिछले संस्करण को पुनः स्थापित किया।)
छो (171.76.231.195 (Talk) के संपादनों को हटाकर Vaibhavkumarsinghkt के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न Reverted
(2409:4042:4e85:a95f::e708:a309 के सम्पादनों को हटाया (अजीत कुमार तिवारी के पिछले संस्करण को पुनः स्थापित किया।))
टैग: Manual revert
 
== नाम की उत्पत्ति ==
{{unreferenced section|date=अप्रैल 2020}}
प्राचीन काल में बस्ती मूलतः वशिष्ठी के नाम से जाना जाता था। इस क्षेत्र के वशिष्ठी नाम की उत्पत्तिराहुलउत्पत्ति ऋषि वशिष्ठ जी के नाम से हुयी, जो भगवान श्रीरामचन्द्र जी के कुलगुरु थे और उनका आश्रम यहां पर था। यही वशिष्ठी नाम ही लोगों द्वारा उच्चारण में गलत होते हुए अन्ततः "बस्ती" हो गया।
ऋषि वशिष्ठ जी के नाम से हुयी, जो भगवान श्रीरामचन्द्र जी के कुलगुरु थे और उनका आश्रम यहां पर था। यही वशिष्ठी नाम ही लोगों द्वारा उच्चारण में गलत होते हुए अन्ततः "बस्ती" हो गया।
 
== इतिहास==
{{unreferenced section|date=अप्रैल 2020}}
13वीं सदी की शुरुआत में, 1225 में इल्तुतमिश का बड़ा बेटा, नासिर-उद-दीन महमूद, अवध के गवर्नर बन गया और इसने भर लोगो के सभी प्रतिरोधो को पूरी तरह कुचल डाला। 1323 में, गयासुद्दीन तुगलक बंगाल जाने के लिए बेहराइच और गोंडा के रास्ते गया शायद वह जिला बस्ती के जंगल के खतरों से बचना चाहता था और वह आगे अयोध्या से नदी के रास्ते गया। 1479 में, बस्ती और आसपास के जिले, जौनपुर राज्य के शासक ख्वाजा जहान के उत्तराधिकरियो के नियंत्रण में था। बहलूल खान लोधी अपने भतीजे काला पहाड़ को इस क्षेत्र का शासन दे दिया था जिसका मुख्यालय बेहराइच को बनाया था जिसमे बस्ती सहित आसपास के क्षेत्र भी थे। इस समय के आसपास, महात्मा कबीर, प्रसिद्ध कवि और दार्शनिक इस जिले में मगहर में रहते थे।
हिंदुओं में भूमिहार ब्राह्मण, सर्वरिया ब्राह्मण और विसेन शामिल थे। पश्चिम से राजपूतों के आगमन से पहले इस जिले में हिंदू समाज का राज्य था। 13वीं सदी के मध्य में श्रीनेत्र पहला नवागंतुक था जो इस क्षेत्र में आ कर स्थापित हुआ। जिनका प्रमुख चंद्रसेन पूर्वी बस्ती से दोम्कातर को निष्कासित किया था। गोंडा प्रांत ( खोरहसा )के कलहंस प्रतिहारकल्हण राजपूत स्वयं परगना बस्ती और रसूलपुर गौस ( चौखड़ा स्टेट ) में स्थापित हुए थे। कलहंस कल्हण प्रांत के दक्षिण में नगर प्रांत में गौतम राजा स्थापित थे। महुली में महसुइया नाम का कबीला था जो महसो के राजपूत थे।
 
अन्य विशेष उल्लेख राजपूत कबीले में चौहान का था। यह कहा जाता है कि चित्तौङ से तीन प्रमुख मुकुंद भागे थे जिनका जिला बस्ती की अविभाजित हिस्से पर (अब यह जिला सिद्धार्थ नगर में है) शासन था। 14वीं सदी की अंतिम तिमाही तक बस्ती जिले का एक भाग अमोढ़ा पर कायस्थ वंश का शासन था।
आधुनिक काल
 
एक महान और दूरगामी परिवर्तन तब आया जब 9 सितम्बर 1772 में सआदत खान को अवध सूबे का राज्यपाल नियुक्त किया गया जिसमे गोरखपुर का फौजदारी भी था। उसी समय बांसी और रसूलपुर पर सर्नेट राजा का, बिनायकपुर पर बुटवल के चौहान का, बस्ती पर कलहंस कल्हण शासक का, अमोढ़ा पर सुर्यवंश का, नगर पर गौतम का, महुली पर सुर्यवंश का शासन था। जबकि अकेला मगहर पर नवाब का शासन था, जो मुसलमान चौकी से मजबूत बनाया गया था।
 
नवंबर 1801 में नवाब शुजा उद दौलाह का उत्तराधिकारी सआदत अली खान ने गोरखपुर को ईस्ट इंडिया कंपनी को आत्मसमर्पण कर दिया, जिसमे मौजूद जिला बस्ती और आसपास के क्षेत्र का भी समावेश था। रोलेजे गोरखपुर का पहला कलेक्टर बना था। इस कलेक्टर ने भूमि राजस्व की वसूली के लिए कुछ कदम उठाये थे लेकिन आदेश को लागू करने के लिए मार्च 1802 में कप्तान माल्कोम मक्लोइड ने मदद के लिए सेना बढा दिया था।