"कुपोषण": अवतरणों में अंतर

3 बाइट्स जोड़े गए ,  2 माह पहले
छो (2409:4064:79B:F7B0:0:0:EED:A8B1 (Talk) के संपादनों को हटाकर Kritagya verma के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
भारत में हर तीन गर्भवती महिलाओं में से एक कुपोषण की शिकार होने के कारण खून की कमी अर्थात् [[रक्ताल्पता]] की बीमारी से ग्रस्त हो जाती हैं। हमारे समाज में स्त्रियाँ अपने स्वयं के खान-पान पर ध्यान नहीं देतीं। जबकि गर्भवती स्त्रियों को ज्यादा पौष्टिक भोजन की आवश्यकता होती है। उचित पोषण के अभाव में गर्भवती माताएँ स्वयं तो रोग ग्रस्त होती ही हैं साथ ही होने वाले बच्चे को भी कमजोर और रोग ग्रस्त बनाती हैं। अक्सर महिलाएँ पूरे परिवार को खिलाकर स्वयं बचा हुआ रूखा-सूखा खाना खाती हैं, जो उनके लिए अपर्याप्त होता है।
3:सही आहार समय पर नहीं मिलना
बच्चों के लिए समय पर सही आहार देना उचित होता है। बच्चोंकेआहारबच्चों के आहार में लंबे अंतराल नहीं होनी चाहिए। हर दो घंटेमेंघंटे में आहार दे ।
 
== इन्हें भी देखें ==
869

सम्पादन