"भक्ति": अवतरणों में अंतर

530 बाइट्स हटाए गए ,  2 माह पहले
42.105.213.215 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 5583951 को पूर्ववत किया
(हमने इस बदलाव में भक्ति के विषय में चर्चा को एक उदाहरण से रोचक बनाया है)
टैग: Reverted यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(42.105.213.215 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 5583951 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
 
मानव चिरकाल से इस एक अनादि सत्ता (ब्रह्म) में विश्वास करता आया है। भक्ति साधन तथा साध्य द्विविध है। साधक, साधन में ही जब रस लेने लगता है, उसके फलों की ओर से उदासीन हो जाता है। यही साधन का साध्य बन जाता है। पर प्रत्येक साधन का अपना पृथक् फल भी है। भक्ति भी साधक को पूर्ण स्वाधीनता, पवित्रता, एकत्वभावना तथा प्रभुप्राप्ति जैसे मधुर फल देती है। प्रभुप्राप्ति का अर्थ जीव की समाप्ति नहीं है, सयुजा और सखाभाव से प्रभु में अवस्थित होकर आनन्द का उपभोग करना है।
 
भक्ति का मतलब है समर्पण यानि की जब कोई भक्ति करता है। तो वह पूरी श्रद्धा से उसके प्रति समर्पित हो जाता है। वह बिना कुछ सोचे उसके अनुसार चलता है एक उदाहरण से समझते है । [https://samajik-centre.blogspot.com/2022/06/Bhakti-kya-hoti-hai.html?m=1 आगे पढ़े]
 
[[रामानुजाचार्य|आचार्यं रामानुज]], [[मध्वाचार्य|मध्व]], [[निम्बार्काचार्य|निम्बार्क]] आदि का मत यही है। [[दयानन्द सरस्वती|महर्षि दयानन्द]] लिखते हैं : ''जिस प्रकार अग्नि के पास जाकर शीत की निवृत्ति तथा उष्णता का अनुभव होता है, उसी प्रकार प्रभु के पास पहुँचकर दुःख की निवृत्ति तथा आनन्द की उपलब्धि होती है। 'परमेश्वर के समीप होने से सब दोष दुःख छूटकर परमेश्वर के गुण, कर्म, स्वभाव के सदृश जीवात्मा के गुण, कर्म और स्वभाव पवित्र हो जाते हैं। परमेश्वर की स्तुति, प्रार्थना तथा उपासना से आत्मा का बल इतना बढ़ेगा कि पर्वत के समान दुःख प्राप्त होने पर भी वह नहीं घबराएगा और सबको सहन कर सकेगा।''