"पुरूवास": अवतरणों में अंतर

280 बाइट्स हटाए गए ,  3 माह पहले
छो
Ramkishan Yadav ji (Talk) के संपादनों को हटाकर Ramkumar yaduvanshi के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(सटीक सुधार)
टैग: Reverted यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (Ramkishan Yadav ji (Talk) के संपादनों को हटाकर Ramkumar yaduvanshi के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया Reverted
{{स्रोतहीन|date=जून 2018}}
{{Infobox royalty
| name= राजा पौरस
| name= राजा पौरस यदुवंश शाखा से आते थे और अहीर जाति से संबधित रखते थे
| birth_place= [[पंजाब क्षेत्र]]
| death_date= 315 ईसा पूर्व
| image=Indian_war_elephant_against_Alexander’s_troops_1685.jpg
|successor=[[मलायकेतु]]|coronation=340 ईसा पूर्व|predecessor=राजा बमनी|birth_name=पुरुषोत्तम|mother= [[अनुसूईया]]}}
'''राजा यदुवंशी पोरस अहीर पुरुषोत्तम''' या '''राजा पोरस''' का राज्य पंजाब में [[झेलम नदी|झेलम]] से लेकर [[चनाब नदी|चेनाब]] नदी तक फैला हुआ था। वर्तमान [[लाहौर]] के आस-पास इसकी राजधानी थी।,<ref>{{cite web|url=https://www.bbc.com/hindi/india-42164678|title=सिकंदर को कांटे की टक्कर देने वाले राजा पोरस कौन थे|access-date=4 नवंबर 2018|archive-url=https://web.archive.org/web/20181104222707/https://www.bbc.com/hindi/india-42164678|archive-date=4 नवंबर 2018|url-status=live}}</ref> जिनका साम्राज्य पंजाब में झेलम और चिनाब नदियों तक (ग्रीक में ह्यिदस्प्स और असिस्नस) और उपनिवेश ह्यीपसिस तक फैला हुआ था।
 
== जीवनी ==
पोरस या पोरोस (ग्रीक Πῶρος, Pôros से), पौरों का राजा था। इनका क्षेत्र हाइडस्पेश (झेलम) और एसीसेंस (चिनाब) के बीच था जो कि अब पंजाब का क्षेत्र है। पोरस ने हाइडस्पेश की लड़ाई में अलेक्जेंडर ग्रेट के साथ लड़ाई की। पोरस का साम्राज्य विशालकाय था। महाराजा पोरस सिन्ध-पंजाब सहित एक बहुत बड़े भू-भाग के स्वामी थे। जो एक यदुवंशीअहीर पोरस का साम्राज्य जेहलम (झेलम) और चिनाब नदियों के बीच स्थित था। उल्लेखनीय है येकि वीरइस अहीरक्षेत्र जातिमें सेरहने संबधितवाले रखतेखोखरों थेने इनकेराजपूत पूर्वजसम्राट महाराजापृथ्वीराज पुरुचौहान वंशकी सेहत्या थेका जोबदला यदुवंशीलेने चंद्रके वंशीलिए अहीर[[मोहम्मद थेग़ोरी]] महाभारतको कालमौत सेके इनकेघाट येउतार राज्यदिया करते आएथा।
महाराजा यदु से संबध था
 
‘पोरस अपनी बहादुरी के लिए विख्यात था। उसने उन सभी के समर्थन से अपने साम्राज्य का निर्माण किया था जिन्होंने खुखरायनों पर उसके नेतृत्व को स्वीकार कर लिया था। जब सिकंदर हिन्दुस्तान आया और जेहलम (झेलम) के समीप पोरस के साथ उसका संघर्ष हुआ, तब पोरस को खुखरायनों का भरपूर समर्थन मिला था। इस तरह पोरस, उनका शक्तिशाली नेता बन गया।’ -आईपी आनंद थापर (ए क्रूसेडर्स सेंचुरी : इन परस्यूट ऑफ एथिकल वेल्यूज/केडब्ल्यू प्रकाशन से प्रकाशित)