"द्रोणाचार्य" के अवतरणों में अंतर

77 बैट्स् नीकाले गए ,  11 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
[[चित्र:एकलव्य.jpeg|thumb|right|250px|गुरु द्रोणाचार्य एकलव्य के साथ]]
'''द्रोणाचार्य''' ऋषि भारद्वाज के पुत्र और धर्नुविद्या निपुण [[परशुराम]] के शिष्य थे। कुरू प्रदेश में पांडु के पाँचों पुत्र तथा [[धृतराष्ट्र]] के सौ पुत्रों के वे गुरु थे। महाभारत युद्ध के समय वह कौरव पक्ष के सेनापति थे। गुरु द्रोणाचार्य के अन्य शिष्यों में [[एकलव्य]] का नाम उल्लेखनीय है। उसने गुरुदक्षिणा में अपना अंगूठा द्रोणाचार्य को दे दिया था। कौरवो और पांडवो ने द्रोणाचार्य के आश्रम मे ही अस्त्रो और शस्त्रो की शिक्षा पायी थी। [[अर्जुन]] द्रोणाचार्य के प्रिय शिष्य थे। वे अर्जुन को विश्व का सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर बनाना चाहते थे।
 
*इसी प्रकार एक दिन गुरु द्रोण ने अर्जुन की सतर्कता और योग्यता की परीक्षा लेने के लिये एक आभासी मगरमच्छ का निर्माण किया की वह उनपर हमला कर रहा है। सभी शिष्य घबरा गये पर अर्जुन ने अपने धनुर कौशल से उस आभासी मगरमच्छ का वध कर दिया, और तब गुरु द्रोण ने प्रसन्न होकर अर्जुन को [[ब्रह्मास्त्र]] का ज्ञान दिया।
 
[[चित्र:एकलव्य.jpeg|thumb|right|250px|गुरु द्रोण को गुरुदक्षिणा में अपना अंगुठा भेंट करता एकलव्य।]]
 
==स्रोत==
854

सम्पादन