"मन्नू भंडारी" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
[[चित्र:Mannu-bhandari.jpg|thumb|right|250px|मन्नू भंडारी]] '''मन्नू भंडारी''' (जन्म [[३ अप्रैल]] [[१९३१]]) [[हिन्दी]] की सुप्रसिद्ध कहानीकार हैं। भानपुरा [[राजस्थान]] में जन्मी मन्नू का बचपन का नाम महेंद्र कुमारी था। लेखन के लिए उन्होंने मन्नू नाम का चुनाव किया। उन्होंने एम ए तक शिक्षा पाई और वर्षों तक दिल्ली के मीरांडा हाउस में अध्यापिका रहीं। वे[[धर्मयुग]] में धारावाहिक रूप से प्रकाशित उपन्यास आपका बंटी से लोकप्रियता प्राप्त करने वाली मन्नू भंडारी [[विक्रम विश्वविद्यालय]], उज्जैन में प्रेमचंद सृजनपीठ की अध्यक्षा भी रहीं। लेखन का संस्कार उन्हें विरासत में मिला। उनके पिता सुख सम्पतराय भी जाने माने लेखक थे।
==प्रकाशित कृतियाँ==
कहानी-संग्रह :- एक प्लेट सैलाब, मैं हार गई, तीन निगाहों की एक तस्वीर, यही सच है, त्रिशंकु, श्रेष्ठ कहानियाँ, आँखों देखा झूठ, नायक खलनायक विदूषक।<br />
854

सम्पादन