"कण्व" के अवतरणों में अंतर

373 बैट्स् जोड़े गए ,  12 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
'''कण्व''' [[वेद|वैदिक]] काल के विख्यात [[ऋषि]] थे। इन्हीं के आश्रम में हस्तिनापुर के राजा दुष्यंत की पत्नी शकुंतला एवं उनके पुत्र भरत का लालन पालन हुआ था। सोनभद्र में जिला मुख्यालय से आठ किलो मीटर की दूरी पर कैमूर शृंखला के शीर्ष स्थल पर स्थित कण्व ऋषि की तपस्थली है जो कंडाकोट नाम से जानी जाती है।
{{आधार}}
{{महाभारत}}
854

सम्पादन