"अंतरिक्ष शटल" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
No edit summary
[[चित्र:STS120LaunchHiRes.jpg|thumb|200px|अंतरिक्ष शटल डिस्कवरी ]]
'''अंतरिक्ष शटल''' [[संयुक्त राज्य]] [[अमरीका]] में [[नासा]] द्वारा मानव सहित उपग्रयया रहित उपग्रह [[यातायात]] प्रणाली को कहा जाता है। यह शटल पुन: प्रयोगनीय यान होता है और इसमें [[कंप्यूटर]] डाटा एकत्र करने और संचार के तमाम यंत्र लगे होते हैं।<ref name="हिन्दुस्तान">[http://www.livehindustan.com/news/tayaarinews/gyan/67-75-87841.html स्पेस शटल]|्हिन्दुस्तानहिन्दुस्तान लाइव|२७ दिसंबर, २००९</ref> इसमें सवार होकर ही [[वैज्ञानिक]] [[अंतरिक्ष]] में पहुंचते हैं। अंतरिक्ष यात्रियों के खाने-पीने और यहां तक कि मनोरंजन के साजो-सामान और व्यायाम के उपकरण भी लगे होते हैं। अंतरिक्ष शटल को [[स्पेस क्राफ्ट]] भी कहा जाता है, किन्तु ये [[अंतरिक्ष यान]] से भिन्न होते हैं। इसे एक [[रॉकेट]] के साथ जोड़कर अंतरिक्ष में भेजा जाता है, लेकिन प्रायः यह सामान्य विमानों की तरह धरती पर लौट आता है। इसे अंतरिक्ष मिशनकार्यक्रमों के लिए कई बार इस्तेमालप्रयोग किया जा सकता है, तभी ये पुनःप्रयोगनीय होता है। इसे ले जाने वाले रॉकेट ही [[अंतरिक्ष यान]] होते हैं।
 
आरंभिक एयरक्राफ्ट एक बार ही प्रयोग हो पाया करते थे। शटल के ऊपर एक विशेष प्रकार की तापरोधी चादर होती है। यह चादर [[पृथ्वी]] की कक्षा में उसे [[घर्षण]] से पैदा होने वाली ऊर्जा[[ऊष्मा]] से बचाती है। इसलिए इस चादर को बचाकर रखा जाता है। यदि यह चादर न हो या किसी कारणवश टूट जाए, तो पूरा यान मिनटों में जलकर खाक हो जाता है। चंद्रमा पर कदम रखने वाले अभियान के अलावा, ग्रहों की जानकारी एकत्र करने के लिए जितने भी स्पेसक्राफ्ट भेजे जाते है, वे रोबोट क्राफ्ट होते है।<ref name="हिन्दुस्तान"/> कंप्यूटर और रोबोट के द्वारा धरती से इनका स्वचालित संचालन होता है। चूंकि इन्हें धरती पर वापस लाना कठिन होता है, इसलिए इनका संचालन स्वचालित रखा जाता है। चंद्रमा के अलावा अभिअभी तक अन्य ग्रहों पर भेजे गये शटल इतने लंबे अंतराल के लिये जाते हैं, कि उनके वापस आने की संभावना बहुत कम या नहीं होती है। इस श्रेणी का शटल [[वॉयेजर १]] एवं [[वॉयेजर २]] रहे हैं।स्पेसहैं। स्पेस शटल [[डिस्कवरी अंतरिक्ष यान|डिस्कवरी]] कई वैज्ञानिकों के साथ [[अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन]] की मरम्मत करने और अध्ययन के लिए अंतरिक्ष में गया था।
 
==संदर्भ==