"विकिपीडिया:चौपाल" के अवतरणों में अंतर

:*बहुत ही अफ़सोस की बात है कि १३२ संपादन वाले शाहाब को बार्न स्टार देना आपको न्याय संगत लगा, जिन्होंने विवादों को भी जन्म दिया दूसरी ओर ३९७ संपादनों के साथ मुक्ता पाठक और ८५५ संपादनों के साथ सुरुचि के योगदान की मात्रा आपको कम लगी।--[[सदस्य:सुरुचि|सुरुचि]] १३:०६, ५ जनवरी २०१० (UTC)
::आप मुनिता जी और गुंजन से पूछ सकती हैं, कि सदस्य:शहाब के लिये मैंने क्या कहा था। ये बात निजी मेल पर हुई थी, इसलिये साक्ष्य उपलब्ध नहीं हैं। हां उनका कारण बता सकता हूं: इस्लाम खास विषय है, जिस पर कोई मुस्लिम ही लिख सकता है। सदस्य:शहाब को गुंजन ने खास इस विषय के लिये निवेदन और आमंत्रण दिया था। तब उसने आकर मात्र इस विषय पर लिखा है। इस कारण मैंने भी बात को नहीं काटा और माण लिया। हां गिनती के अनुसार संपादन बहुत ही कम हैं, किंतु उन सभी की एक ही दिशा है, तभी इस्लाम बार्न स्टार ही मिल रहा है, न कि कोई अन्य प्रकार। आशा है आप समझ जायेंगीं और अन्यथा न लेंगीं। हां इतना वादा करता हूं, कि किसी खास विषय की कमी को यदि आप पूरा करती हैं, तो मेरी ओर से भी पक्का है। इसके बारे में गुंजन, सिद्धार्थ, श्रीश और कई अन्य लोग बता सकते हैं।--<small><span style="border:1px solid #0000ff;padding:1px;">'''प्र:'''[[User:आशीष भटनागर|<b>आशीष भटनागर</b>]][[User_talk:आशीष भटनागर|<font style="color:#FF4F00;background:#4B0082;"> &nbsp;वार्ता&nbsp;</font>]] </span></small> १३:१४, ५ जनवरी २०१० (UTC)
:::यह उत्तर संतोषजनक नहीं है। इस्लाम लेख किस दृष्टि से खास है? अगर इसके लेखक को १३२ संपादनों के आधार पर बार्न स्टार के योग्य समझा जाता है तो समानता के आधार पर १३२ तक संपादन करने वाले हर सदस्य को उस लेख के लिए विशेष बार्न स्टार दिया जाना चाहिए जो उसने बनाया है। इस्लाम लेख में कोई पर तो नहीं लगे हैं कि सिर्फ उसी लेख के रचयिता को विशिष्ट बार्न स्टार दिया जाय।--[[सदस्य:सुरुचि|सुरुचि]] १५:२८, ५ जनवरी २०१० (UTC)
{{संदूक बंद}}
 
854

सम्पादन