"सीरियल ऐटा" के अवतरणों में अंतर

353 बैट्स् जोड़े गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
| external = Yes ([[#eSATA|eSATA]])
}}
[[सीरियल ऐटा]] (या '''सैटा''') ([[अंग्रेज़ी]]: ''SATA'') [[हार्ड ड्राइव]] को [[कम्प्यूटर]] से जोड़ने का एक तरीका होता है। यह [[पैटा]] (''PATA'') का प्रतिस्थापन है। सैटा के आने से पहले पैटा को ऐटा (''ATA'') या आई॰डी॰ई (ATA) ही कहते थे। सैटा की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता जो इसे पैटा से भिन्न करती है वो है इसके केबल। सैटा हार्ड ड्राइव को कम्प्यूटर से जोड़ने के लिए पतले केबल का उपयोग करता है। पैटा अभी भी सैटा से अधिक उपयोग में लाया जाता है, किन्तु अब नए कम्प्यूटरों में सैटा लगा हुआ मिलता है। [[२००५]] के बाद के कम्प्यूटरों में सैटा इंटरफ़ेस लग कर आ रहा है। पैटा में 'P' का अर्थ है ''पैरेलल'' (यानि समानांतर) और इसे कम्प्यूटरों में कई तारों के रूप में देखा जा सकता है जो रिबन केबल में एक ही दिशा की ओर समानांतर जाती हैं और हार्ड ड्राइव से जुड़ती हैं।
 
[[चित्र:सैटा१.jpeg|thumb|left|200px|सफ़ेद केबलें पैर्लल-ऐटा (या आई॰डी॰ई) केबल हैं; नीली वाली सीरियल-ऐटा केबल है।]]
[[चित्र:सैटा१.jpeg|thumb|left|200px|सफ़ेद केबलें पैर्लल-ऐटा (या आई॰डी॰ई) केबल हैं; नीली वाली सीरियल-ऐटा केबल है।]]सैटा और पैटा में बहुत सी भिन्नताएं होती हैं। सैद्धांतिक रूप से सैटा पैटा से तीव्र होता है। यद्यपि जिन अतितीव्र गतियों (१५० एमबी/सै, ३०० एमबी/सै) के बारे में कंपनियां दावे करतीं है, उनकी आवश्यकता प्रायः कम ही पड़ती है। अन्य लाभों में हैं नई केबल का सरल रख-रखाव। कुछ ड्राइव को कम्प्यूटर के चलते रहते हुए ही कम्प्यूटर से जोड़ा या अलग किया जा सकता है, यानि कंप्यूटर को शट-डाउन करने की आवश्यकता नहीं होती। इसे हॉट स्वैपिंग (''hot swapping'') कहा जाता है। अंततः, कुछ ड्राइवें "नेटिव कमांड क्यूइंग" (''Native Command Queueing'') समर्थित हैं। इसका अर्थ है कि ड्राइव किसी कार्य के क्रम को पुनर्व्यवस्थित कर सकती है जिससे की वह कार्य तीव्र गति से हो।हो।इन दोनों के अलग जोड़ और भिन्न [[मदरबोर्ड]] प्रकार भी होते हैं। पुराने पैटा वाले मदरबोर्ड में सैटा की ड्राइव नहीं लग सकती है, न ही इसका उलटा संभव है।
 
[[चित्र:सैटा३.jpeg|thumb|right|200px|तुलनात्मक रूप से सैटा केबल (जोड़क के साथ)।]]
[[चित्र:सैटा१.jpeg|thumb|left|200px|सफ़ेद केबलें पैर्लल-ऐटा (या आई॰डी॰ई) केबल हैं; नीली वाली सीरियल-ऐटा केबल है।]]सैटा और पैटा में बहुत सी भिन्नताएं होती हैं। सैद्धांतिक रूप से सैटा पैटा से तीव्र होता है। यद्यपि जिन अतितीव्र गतियों (१५० एमबी/सै, ३०० एमबी/सै) के बारे में कंपनियां दावे करतीं है, उनकी आवश्यकता प्रायः कम ही पड़ती है। अन्य लाभों में हैं नई केबल का सरल रख-रखाव। कुछ ड्राइव को कम्प्यूटर के चलते रहते हुए ही कम्प्यूटर से जोड़ा या अलग किया जा सकता है, यानि कंप्यूटर को शट-डाउन करने की आवश्यकता नहीं होती। इसे हॉट स्वैपिंग (hot swapping) कहा जाता है। अंततः, कुछ ड्राइवें "नेटिव कमांड क्यूइंग" (Native Command Queueing) समर्थित हैं। इसका अर्थ है कि ड्राइव किसी कार्य के क्रम को पुनर्व्यवस्थित कर सकती है जिससे की वह कार्य तीव्र गति से हो।
[[चित्र:सैटा२.jpeg|thumb|right|200px|८० पिन पैटा/आई॰डी॰ई केबल का जोड़।]]
 
इन दोनों के अलग जोड़ और भिन्न मदरबोर्ड (motherboard) प्रकार भी होते हैं। पुराने पैटा वाले मदरबोर्ड में सैटा की ड्राइव नहीं लग सकती है, न ही इसका उलटा संभव है।
 
पैटा अभी भी सैटा से अधिक उपयोग में लाया जाता है, लेकिन अब नए कम्प्यूटरों में सैटा लगा हुआ आ रहा है। २००५ के बाद के कम्प्यूटरों में सैटा इंटरफ़ेस लग कर आ रहा है। पैटा में 'P' का अर्थ है 'पैर्लल' (समानांतर) और इसे कम्प्यूटरों में कई तारों के रूप में देखा जा सकता है जो रिब्बन केबल में एक ही दिशा की ओर जाती हैं और हार्ड ड्राइव से जुड़ती हैं।
सैटा और पैटा में बहुत सी भिन्नताएं हैं। सैद्धांतिक रूप से सैटा पैटा से तीव्र है। यद्यपि जिन अतितीव्र गतियों (१५० एमबी/सै, ३०० एमबी/सै) के बारे में कम्पनीयां दावे करतीं है, उनकी आवश्यकता कम ही पड़ती है। अन्य लाभों में हैं नई केबल का सरल रख-रखाव। कुछ ड्राइव को कम्प्यूटर के चलने के दौरान ही कम्प्यूटर से जोड़ा या अलग किया जा सकता है। इसे हॉट स्वैपिंग (''hot swapping'') कहा जाता है।