मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

386 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
 
इन सभी ग्रंथों में जैन संमत अनेकांतवाद के आधार पर [[प्रमाण]] और [[प्रमेय]] की विवेचना की गई है और जैनों के अनेकांतवाद को सदृढ़ भूमि पर सुस्थित किया गया है।
 
==बाहरी कड़ियाँ==
*[http://books.google.co.in/books?id=1KYxaYLo7GMC&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false तत्वार्तवार्तिक (या राजवार्तिक)] (गूगल पुस्तक ; मूल रचयिता - भट्ट अकलंक ; व्याख्याता - महेन्द्र जैन)
 
[[श्रेणी:भारतीय दर्शन]]