"लेसर किरण" के अवतरणों में अंतर

12,719 बैट्स् जोड़े गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
{{ infobox Product
{{merge|लेसर विज्ञान}}
| title = लेज़र
| image = [[Image:Military laser experiment.jpg|center|300px]]
| caption = [[यूएस एयरफोर्स]] लेज़र उपकर्ण
| inventor = [[चाल शार्ड टोन्स]]
| launch year = १९६०
| company =
| available = विश्वव्यापी
| current supplier =
| last production =
| notes =
}}
[[File:Laser play.jpg|250px|thumb|[[कुहरा|कुहरे]] में लेज़र किरण एक कार के शीशे से परावर्तित होती हुई।]]
लेजर ([[अंग्रेज़ी]]:''लाइट एंप्लीफिकेशन बाई स्टीमुलेटेड एमिशन ऑफ रेडिएशन'') का संक्षिप्त नाम है। [[प्रत्यक्ष वर्णक्रम]] की [[विद्युतचुम्बकीय तरंग]], यानि [[प्रकाश]] उत्तेजित उत्सर्जन की प्रक्रिया द्वारा संवर्धित कर एक सीधी रेखा की किरण में बदल कर उत्सर्जित करने का तरीक होता है। इस प्रका निकली प्रकाश किरण को भी लेज़र किरण ही कहा जाता है। ये किरण प्रायः आकाशीय रूप से कोहैरेन्ट (सरल रैखिक व एक स्रोतीय), संकरी अविचलित होती है, जिसे किसी लेन्स द्वारा परिवर्तित भी किया जा सकता है। ये किरणें संकरी वेवलेन्थ, [[विद्युतचुम्बकीय वर्णक्रम]] की एकवर्णीय प्रकाश किरणें होती है। हालांखि बहुवर्णीय प्रकाशधारिणी लेज़र किरणें या बहु वेवलेन्थ लेज़र भी निर्मित की जाती हैं। एक पदार्थ (सामान्यत: एक गैस और क्रिस्टल) को ऊर्जा, जैसे प्रकाश या विद्युत से टकराने के बाद वह अणु को विद्युतचुम्बकीय विकिरण (एक्सरे, पराबैंगनी किरणें) उत्सर्जित करने के लिए उत्तेजित करता है जिसको बाद में संवर्धित किया जाता है और एक किरण के रूप में इसे छोड़ा जाता है। लेजर एक ऐसी तकनीक के रूप में विकसित हुई है जिसके सहारे आज आधुनिक जगत के अनेक कार्य सिद्ध होते हैं। लेज़र का आविष्कार लगभग ५० वर्ष पहले हुआ था। आधुनिक जगत में लेजर का प्रयोग हर जगह मिलता है – वैज्ञानिक प्रयोगशालाओं, सुपरमार्केट और शॉपिंग मॉल्स से लेकर अस्पतालों तक में भी। मनोरंजन के संसार में डीवीडी के प्रकार्य में लेज़र ही सहायक होता है, सुरक्षा और सैन्य क्षेत्र में वायुयानों को गाइड करने में, तोप और बंदूकों को लक्ष्य लॉक करने में, आयुर्विज्ञान के क्षेत्र में दंत चिकित्सा, और लेज़र से आंख के व अन्य शारीरिक ऑपरेशन, कार्यालयों के कार्य में लेज़र प्रिंटर द्वारा डाक्यूमेंट प्रिंटिंग, संचा क्षेत्र में ऑप्टिकल फाइबर केबलों तक में लेज़र ही चलती है। पिछले ५० वषों में लेजर ने अपनी उपयोगिता को व्यापक तौर पर सिद्ध कर दिखाया है।
 
लेजर किरण का आविष्कार थिओडोर मैमेन द्वारा हुआ मात्र एक संयोग ही था। थिओडोर मैमेन के कैमरे के लैंस की कुण्डली के ऊपर [[माणिक्य]] (रूबी) का एक टुकड़ा संयोग से रखने पर एक लाल रंग की प्रकाश किरण निकली। थिओडोर ने ह्यूज़स शोध प्रयोगशाला में इस पर गहन अध्ययन किया। उन्होंने वहां देखा कि किसी बल्ब के फ्लैश से माणिक्य के पतले से बेलन को आवेशित करना संभव है और फिर इससे ऊर्जा उत्पन्न की जा सकती है। इससे शुद्ध लाल रंग का प्रकाश उत्सर्जित होता है जिसकी तरंगें एक समान रूप और अंतराल से प्रवाहित होती हैं और एक सीधी रेखा में चलती हैं। चूंकि ये किरणें अत्यंत शक्तिशाली थीं और परीक्षण के दौरान सर्वप्रथम एक रेजर के ब्लेड में भी छेद बना सकती थी, इसलिए तत्कालीन भौतिकशास्त्रियों ने इसकी शक्ति को जिलेट में मापना शुरू किया।
 
==प्रयोग==
लेजर का आविष्कार होते ही उद्योगपतियों, सैन्य संगठनों और अन्य लोगों ने इस क्षेत्र में उत्साह लेना आरंभ कर दिया। बच्चों के लिये चित्रकथाओं और कहानियों, उपन्यासों में भी खलनायक लेजर बंदूकों का प्रयोग करते दिखाई देने लगे थे। वैज्ञानिकों और अभियांत्रिकों की मदद से इस नयी तकनीक का प्रयोग नये नये प्रयोगों और उपकरणों में करने की धूम मच गयी थी। १९६९ में एमेट लीथ और ज्यूरीस उपानिक्स ने लेजर तकनीक से पहली बार त्रिआयामी होलोग्राफिक चित्र बनाया।
इसके लिए दो अलग-अलग शक्ति की लेजर किरणों का प्रयोग किया गया था। ये नया तैयार हुआ चित्र पिछले होलोग्रामों से बेहतर, सटीक तो था ही, और उसकी नकली प्रतिकृति बनाना लगभग असंभव था। इसके अलावा अन्य कई यंत्रों, मशीनों, उपकरणों के निर्माण में लेजर तकनीक का प्रयोग चालू हो गया। विज्ञान और प्रौद्योगिकी के अनेक क्षेत्रों में लेज़र का अत्यधिक प्रयोग होने लगा है। इसका प्रयोग आज कारों, हवाई जहाज, टेलीफोन कॉल और ई-मेल में भी होता है। [[जैवप्रौद्योगिकी]] के क्षेत्र में डीएनए सिक्वेसिंग तक में लेज़र प्रयोग होती है। लेजर किरणों द्वारा छोटी-छोटी मशीनों को सटीक आकार दिया जाना संभव हो पाया है। इससे अतिसूक्ष्म ऑप्टिकल फाइबर केबल निर्माण भी संभव हो पाये हैं। सीएमसी मशीनें भी लेज़र पर ही काम करती हैं। अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में लेज़र विशेष कारगर रही है। बड़े बड़े आयोजनों के उद्घाटन समारोहों में लेजर शो का चमकदार और भव्य आयोजन होता रहता है।
 
सैन्य गतिविधियों में लेजर किरणों का प्रयोग अब आम बात हो चुकी है, चाहे वह लेजर गाइडेड बम हो या बारूदी सुरंगों को ढूंढने वाले उपकरण। लेज़र के रचनात्मक कार्यों के संग ही विध्वंसात्मक प्रयोग भी समानांतर चलते रहे। अमेरिकी हथियार कंपनियां लेसर प्रणाली पर लंबे काल से कार्यरत हैं और इसी तकनीक पर स्टार वार्स का कार्यक्रम आधारित रहा है। हालांकि अभी तक किसी अमेरिकी कंपनी ने ऐसी किसी प्रक्रिया या उपकरण प्रणाली का प्रायोगिक रूप में खुलासा नहीं किया है। अभी तक ये परीक्षण के दौर में ही हैं। अमेरिका और इजराइल की कंपनियों ने टैक्टिकल हाई एनर्जी लेसर (टीएचईएल) का विकास किया है, जिसे ड्यूटेरियम फ्लोराइड लेसर कहते हैं। इसके प्रयोग से आकाश में ही विमान और प्रक्षेपास्त्रों को गिराया जा सकता है। अमेरिका की नेशनल मिसाइल डिफेंस योजना के तहत इस लेजर हथियार को विकसित किया जा रहा है। कुछ वर्ष पहले नॉर्थरॉप ने ग्रूमान में हाई-पावर लेजर का प्रदर्शन किया जो इतना शक्तिशाली था कि वो युद्ध में भी प्रयोग किया जा सकता था। इसको बनाने में लेजर पदार्थ नियोडाइमियम को याट्रियम एल्यूमिनियम गारनेट में डोप किया गया था।
 
==पुराना==
[[चित्र:Laser_play.jpg|thumb|200px|धुंध में कार की विंड स्क्रीन पर लेज़र]]
[[1957]] में, [[:en:Bell Labs|बेल प्रयोगशाला]] में चार्ल्स हार्ड टाउन्‍स और [[:en:Arthur Leonard Schawlow |आर्थर लियोनार्दो स्चाव्लो]] ने अवरक्त लेसर पर एक गंभीर अध्ययन शुरू किया I जैसे जैसे यह विचार विकसित हुआ, [[अधोरक्त|अवरक्त]] आवृत्तियों से ध्यान हटा कर उनकी जगह [[प्रत्यक्ष वर्णक्रम|दृश्य प्रकाश]]पर ज्यादा ध्यान दिया जाने लगा Iयह अवधारणा मूलतः एक "प्रकाशीय मसेर" के रूप में जाना जाता था Iएक साल बाद बेल प्रयोगशाला ने प्रस्तावित प्रकाशीय मसेर के लिए [[पेटेन्ट|एकाधिकार]] का आवेदन दायर किया Iस्चाव्लो और तोव्नेस ने सैद्धांतिक गणना की एक पांडुलिपि [[:en: Physical Review|भौतिक समीक्षा]] को भेजा,जिसमें उनके शोधपत्र को उसी साल प्रकाशित किया गया.(भाग 112, अंक 6).