"जन्म" के अवतरणों में अंतर

18 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
छो
{{आधार}} जोड़ा गया
(नया पृष्ठ: जीवों के शरीर बहुत छोटी-छोटी काशिकाओं से बने हैं। सरलतम एक-कोशिका…)
 
छो ({{आधार}} जोड़ा गया)
शायद हम सोचें, सभी जीवधारियों का अंत होता है। ‘केहि जग काल न खाय।‘ वनस्पति और जंतु सभी मृत्यु को प्राप्त होते हैं और उनका शरीर नष्ट हो जाता है। परंतु यदि एक-कोशिक जीव बड़ा होकर अपने ही प्रकार के दो या अधिक जीवों में बँट जाता है तो इस घटना को पहले जीव की मृत्यु कहेंगे क्या ? वैसे तो संतति भी माता-पिता के जीवन का विस्तार ही है, उनका जीवनांश एक नए शरीर में प्रवेश करता है।
 
[http://astrobhadauria.wikidot.com/Brhamand जीव की उत्पत्ति (जन्म)]
 
[[श्रेणी:ज्योतिष]]
[[श्रेणी:भदावर]]
[[श्रेणी:उत्तर प्रदेश]]
 
[http://astrobhadauria.wikidot.com/Brhamand जीव की उत्पत्ति (जन्म)]
{{आधार}}
1,94,421

सम्पादन