"गतिप्रेरक" के अवतरणों में अंतर

13 बैट्स् जोड़े गए ,  10 वर्ष पहले
छो
removed {{आधार}}
छो (साँचा {{आधार}})
छो (removed {{आधार}})
 
{{आधार}}
 
{{आज का आलेख}}
[[Image:Pacemaker GuidantMeridianSR.jpg|thumb|right|एक पेसमेकर, स्केल के संग आकार का अनुमान लगाने हेतु]]
[[Image:St Jude Medical pacemaker with ruler.jpg|right|thumb|एक कृत्रिम पेसमेकर अन्तर्शिरा भेदन हेतु। ]]
'''गतिप्रेरक''' ([[अंग्रेज़ी]]:''पेसमेकर'') एक ऐसा छोटा उपकरण है, जो [[मानव]] [[हृदय]] के साथ ऑपरेशन कर लगाया जाता है और मुख्यतः ह्रदय गति को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके द्वारा किये गये प्रमुख कार्यों में ह्रदय गति को उस समय बढ़ाना, जब यह बहुत धीमी हो एवं उस समय धीमा करना, जब यह बहुत तेज़ हो आते हैं। इनके अलावा हृदय गति के अनियमित होने की दशा में ह्रदय को नियन्त्रित रूप से धड़कने में मदद भी करता है। पेसमेकर को सर्जरी के द्वारा छाती में रखा जाता है। लीड नामक तारों को ह्रदय की मांसपेशी में डाला जाता है। बैटरी वाला यह उपकरण कंधे के नीचे त्वचा के भीतर रखा जाता है।<ref name="ऑनलाइन">[http://www.heartonline.in/pacemakerimplantation.html पेसमेकर (गतिप्रेरक)]।हार्ट ऑनलाइन</ref> इसे लगाने के ऑपरेशन उपरांत रोगी को घर ले जाने के लिये परिवार का कोई वयस्क सदस्य या मित्र उसके साथ आना चाहिए। रोगी के लिये उस समय वाहन चलाना या अकेले वापस जाना सुरक्षित नहीं है। रोगी को अपनी शल्य-क्रिया के बाद पहले दिन किसी वयस्क को घर मे अपने साथ ठहराना चाहिये। इसकी सर्जरी में १-२ घंटे लगते हैं। एक ऐसा ही पेसमेकर उन लोगों के मस्तिष्क के लिए भी बनाया गया है, जिनके हाथ पैर ठीक से काम नहीं करते हैं।<ref>[http://www.dw-world.de/dw/article/0,,5329102,00.html दिमाग़ के लिए भी पेसमेकर]।डी.डब्लु-वर्ल्ड।७ मार्च, २०१०।राम यादव</ref>
 
 
===सर्जरी===
[[File:Herzschrittmacher_auf_RoentgenbildHerzschrittmacher auf Roentgenbild.jpg|thumb|200px|पेसमेकर की [[एक्स-रे]] छवि, उसके तारों का मार्ग दिखाते हुए।]]
पेसमेकर लगाने के आपरेशन में रोगी की बाँह में नस में एक इंट्रावीनस (आई.वी.) नली डाली जाती है। फिर नींद लाने के लिये आई.वी. के माध्यम से दवाएँ दी जाती है। गर्दन या सीने को साफ़ किया जाता है और पुरूषों के सीने के बाल काटे जाते हैं। त्वचा को सुन्न किया जाता है व तार की लीडें ह्रदय की मांसपेशी में रखी जाती है। प्रत्येक तार का दूसरा सिरा पेसमेकर से जोडा जाता है। पेसमेकर त्वचा के नीचे एक छोटे से स्थान में रखा जाता है। चीरों को टांको से बंद कर दिया जाता है। दोनो जगहों को पट्टियों या टेप के टुकडे से ढ़का जाता है।अस्पताल में रोगी की प्रभावित जगह पर बर्फ़ की पोटली रखी जा सकती है। [[रक्तचाप]], ह्रदय गति और चीरों की बार-बार जाँच की जाती है। बिस्तर के सिरहाने को उठा दिया जाता है। यहां ये ध्यानयोग्य है कि रोगी को बाँह को उस तरफ़ अपने सिर से ऊपर नहीं उठाना चाहिये जिस तरफ़ पेसमेकर रखा हो। फ़ेफ़डों और पेसमेकर की जाँच करने के लिये उनके सीने का [[एक्स-रे]] किया जाता है। [[संक्रमण]] रोकने के लिये आई.वी. में प्रतिजैविक दवाएँ दी जाती है।
 
{{टिप्पणीसूची}}
 
[[Categoryश्रेणी:अमरीकी खोज]]
[[Categoryश्रेणी:हृदय]]
[[Categoryश्रेणी:हृदय रोग]]
 
[[ar:منظم ضربات القلب الاصطناعي]]
[[eu:Taupada-markagailu]]
[[fa:ضربان‌ساز]]
[[fi:Sydämentahdistin]]
[[fr:Stimulateur cardiaque]]
[[it:Pacemaker]]
[[he:קוצב לב]]
[[nlit:Pacemaker]]
[[ja:心臓ペースメーカー]]
[[nonl:Pacemaker]]
[[nn:Pacemaker]]
[[itno:Pacemaker]]
[[pl:Stała elektrostymulacja serca]]
[[pt:Marcapasso]]
[[ru:Электрокардиостимулятор]]
[[sk:Kardiostimulátor]]
[[fi:Sydämentahdistin]]
[[sv:Pacemaker]]
[[tr:Kalp pili]]
1,94,421

सम्पादन