"अली अक़बर ख़ाँ" के अवतरणों में अंतर

35 बैट्स् नीकाले गए ,  14 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
 
He is a past master at outlining a melody with great economy of stroke, which has stood him in good stead in his short 78 rpm records in the middle of the last century.
उनकी लंबी संगीत प्रस्तुतियाँ सामान्यत: शांत एवं सरल संगीत (के आलाप, और जोड़) से शुरु होकर काफीद्रुत उत्साहित,गत तीव्रऔर एवं उत्तेजना से भरपूर संगीत (गट, झाला)झाले की तरफ जाती हैं। साथ ही वह दो वाद्य यंत्रों के बीच होने वाले "सवाल जवाब" को प्रस्तुत करने वाले संगीतज्ञों का बेहतरीन उदाहरण हैं। बढ़ती उम्र एवं बीमारी की वज़ह से उनकी संगीत प्रस्तुतियों की संख्या में कमी आई है पर संगीत के बारे में आपकीउनकी जानकारी उल्लेखनीय है।
<!--
His long concert performances progress from the meditative (alap, jod) to the exhilarating (gat, jhala) in a highly structured build-up in the Senia beenkar style. He is also possibly the best living exponent of "sawal-jawab", a dialogue between two instruments (usually one melodic and one percussion). Of late, ill health has reduced the frequency of his concerts and affected his physical dexterity on his instrument, but his musical depth is still very much extant.
28,109

सम्पादन