विवेकानंदन कृष्णवेनी शशिकला (जन्म 18 अगस्त 1954), जिन्हें उनके विवाहित नाम शशिकला नटराजन के नाम से भी जाना जाता है, एक भारतीय राजनीतिज्ञ हैं, जिन्होंने अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में कार्य किया, जो एक द्रविड़ पार्टी थी, जिसका कैडर उन्हें उनके रूप में सम्मानित करता था। "चिन्नम्मा" (माँ की बहन) "पुरात्ची थाई" (क्रांतिकारी माँ)। वह तमिलनाडु की दिवंगत मुख्यमंत्री जे. जयललिता की करीबी सहयोगी थीं, जिन्होंने 1989 से 2016 में अपनी मृत्यु तक अन्नाद्रमुक का नेतृत्व किया। जयललिता की मृत्यु के बाद, पार्टी की सामान्य परिषद ने उन्हें अन्नाद्रमुक के महासचिव के रूप में चुना। 2001 में, जयललिता को पद से अयोग्य घोषित कर दिया गया था और ओ पनीरसेल्वम को तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था, उन्हें वीके शशिकला ने सुझाव दिया था और 2017 में, परापना अघरहा जेल जाने से पहले, वी.के. शशिकला ने एडप्पादी पलानीसामी को तमिलनाडु का मुख्यमंत्री नियुक्त किया था। लेकिन ओ पन्नीरसेल्वम और एडप्पादी पलानीसामी और कुछ मंत्रियों ने उन्हें धोखा दिया और उन्हें पद से हटा दिया और सितंबर 2017 में उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया। [2] [3] उनके निष्कासन के बाद उन्होंने अन्नाद्रमुक महासचिव के रूप में उन्हें हटाने के लिए चेन्नई की अदालत का दरवाजा खटखटाया। यह मामला अभी भी निर्णय के लिए लंबित है [4]

वीके शशिकला
VK Sasikala Natarajan.jpg

अन्नाद्रमुक महासचिव
पद बहाल
31 दिसंबर 2016 – 17 सितंबर 2017
सहायक टीटीवी. दिनाकरन
पूर्वा धिकारी जयललिता
उत्तरा धिकारी पद समाप्त

जन्म 18 अगस्त 1957
थिरुथुरईपूंडी , तंजौर , तमिलनाडु भारत[1]
जन्म का नाम विवेकानन्दन कृष्णवेणि शशिकला
राजनीतिक दल ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम
जीवन संगी एम.नटराजन (मृत्यु: 2018)
निवास 179/68, अबीबुल्ला रोड, टी नगर, चेन्नई, तमिलनाडु, भारत
शैक्षिक सम्बद्धता सरकारी महिला स्कूल, थिरुदुरईपोंडी
व्यवसाय
  • राजनेता
धर्म थेवर, हिंदू
हस्ताक्षर
जालस्थल puratchithaai.com
उपनाम पुरात्ची थाई, छिन्नम्मा, सिंगा थरगाई

जन्मसंपादित करें

शशिकला का जन्म चेन्नई से 330 किलोमीटर दूर तमिलनाडु राज्य में स्थित तंजौर जिले के थिरुथुरईपूंडी में 1957 में हुआ था। इनकी माता का नाम कृष्णावेणी और पिता नाम विवेकानंदन है।

व्यक्तिगत जीवनसंपादित करें

इनका विवाह तमिलनाडु सरकार में पीआरओ रहे एम.नटराजन से हुआ था।[1] शशिकला तीन दशक तक तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की अभिन्न सहेली रही। प्रारम्भ में यह मुख्यमंत्री जयललिता के कार्यक्रमों में फोटोग्राफी का कार्य करती थी और यहीं से जयललिता की ख़ास सहेली बन गई। जयललिता के संपर्क में आने पूर्व शशिकला फोटोग्राफी का स्टूडियो चलाती थी।तथा शादी एवम समारोहों में फोटोग्राफी करती थी। दिनांक १९ मार्च २०१८ को शशिकला के पति मरुथप्पा नटराजन का निधन हो गया। [2]

राजनीतिक जीवनसंपादित करें

31 दिसंबर 2016 को जयललिता के निधन के पश्चात् शशिकला ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम की महासचिव निर्वाचित हुई।[3] शशिकला तमिलनाडु में चिनम्मा (मौसी ) के नाम से जानी जाती है। सक्रिय राजनीति में शशिकला का प्रवेश 31 दिसंबर 2016 से प्रारम्भ हुआ।आय से अधिक संम्पत्ति के अपराध में शशिकला को ४ वर्ष कैद की सजा के बाद.3 मार्च, 2021 को उन्होंने घोषणा की कि वह राजनीति से हट रहे हैं। [21] [22] उसके बाद सेल फोन पर अपने समर्थकों से बात कर रही शशिकला 16 अक्टूबर 2021 को सुश्री जयललिता के स्मारक पर गईं और श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद एक सप्ताह के राजनीतिक दौरे की शुरुआत की।से बाहर कर दिया है।[4]

आय से अधिक संपत्ति प्रकरणसंपादित करें

आय से अधिक संपत्ति के प्रकरण में शशिकला को उच्चतम न्यायालय द्वारा 4 वर्ष की सजा सुनाये जाने पर शशिकला ने 15 फरवरी 2017 को बेंगलुरु ट्रायल कोर्ट में आत्म समर्पण कर दिया जहाँ उन्हें कैदी संख्या 10711 आवंटित की गयी। [5] साथ ही उनपर दस करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है[6]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 6 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 फ़रवरी 2017.
  2. http://www.navabharat.com/शशिकला-के-पति-मरुथप्पा-का.html[मृत कड़ियाँ]
  3. http://www.thehindu.com/news/national/tamil-nadu/Sasikala-takes-over-as-AIADMK-general-secretary/article16968463.ece1
  4. "संग्रहीत प्रति". मूल से 18 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 फ़रवरी 2017.
  5. "संग्रहीत प्रति". मूल से 16 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 फ़रवरी 2017.
  6. "संग्रहीत प्रति". मूल से 14 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 फ़रवरी 2017.