वुज़ू

नमाज़ से पहले शुद्धि का एक इस्लामी नियम

वुज़ू[1] (अरबी: الوضوء, वुदू (हिन्दी में); ) शरीर के भागों को धोने के लिए एक इस्लामी प्रक्रिया है, यह शुद्धि का एक धार्मिक तरीका है। वुज़ू में हाथ, मुंह, नाक(अंदरूनी), बाजुएँ, सिर और पाँव को पानी से धोना शामिल है और यह इस्लाम में धार्मिक अनुष्ठान का एक महत्वपूर्ण अंग है।'कौनसी गतिविधियो में वुज़ू[2] ज़रूरी होता है, ये किन-किन धार्मिक विधियो से गठित होता है और इसे क्या तोड़ता (भंग) या अमान्य करता है ' ये सब मामले फ़िक़्ह (इस्लामी न्यायशास्त्र) के अंतर्गत आते हैं [3] और विनिर्दिष्टतः यह नियम स्वछता से संबंधित है।

अल-अक़्सा मस्जिद में अल-कास फ़व्वारा

वुज़ू आम तौर पर नमाज़ों (औपचारिक प्रार्थनाओं) की तैयारी करने के लिए और पवित्र-क़ुरआन को थामने या पढ़ने से पहले भी किया जाता है।[3] पेशाब, शौच, अधोवायु (पाद), गहरी नींद और ज़रा भी खून बहना इन अशुद्ध करने वाली गतिविधियों से वुज़ू अमान्य या टूट जाता है।[4]

प्रतिबंधित पानी के प्रकारसंपादित करें

  1. अशुद्ध पानी
  2. फलों और पेड़ों से निकाला गया पान।
  3. पानी जिसने अपना रंग, स्वाद और गंध बदल दी है और वह गाढ़ा हो गया है क्योंकि उसमें कुछ मिला हुआ थ।
  4. पानी की छोटी मात्रा जिसमें कुछ अशुद्ध गिर गया है, उदा। मूत्र, रक्त, मल या शराब या मृत जानवर।
  5. हराम जानवरों (जैसे सूअर या शिकारी जानवर) द्वारा पीने के बाद बचा हुआ पानी।
  6. इस्तेमाल किया हुआ पानी।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. irfan, sheikh. "वुज़ू का सुन्नति मस्नून तरीका हिंदी में". irfani-islam. irfani. अभिगमन तिथि 21 अक्टूबर 2021.
  2. irfan, sheikh. "wuzu ka sunnati or masnoon tarika roman english me". english.irfani-islam. irfani. अभिगमन तिथि 21 अक्टूबर 2021.
  3. Glasse, Cyril (2001). The New Encyclopeida of Islam. Altmira Press. पृ॰ 477.
  4. Dikmen, Mehmet (3 May 2011). "What are the things that invalidate and break wudu?". Questions on Islam. मूल से 23 अप्रैल 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 May 2016.