वैक्लेव हैवेल चेकोस्लोवाकिया के अंतिम और चेक गणराज्य के प्रथम राष्ट्रपति थे। इन्हें २००३ में भारत सरकार द्वारा गाँधी शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। 5 अक्टूबर 1936 - 18 दिसंबर 2011 वैक्लेव हैवेल एक बहुचर्चित राजनेता, लेखक थे, जिन्होंने 1989 से चेकोस्लोवाकिया के आखिरी राष्ट्रपति के रूप में सेवा की और 1992 में चेकोस्लोवाकिया के विघटन तक और फिर चेक के पहले राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। चेक साहित्य के लेखक के रूप में, वह अपने नाटकों, निबंधों और संस्मरणों के लिए जाने जाते हैं।[1]

वैक्लेव हैवेल

संदर्भसंपादित करें

  1. Crain, Caleb (2012-03-21). "Havel's Specter: On Václav Havel" (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0027-8378. अभिगमन तिथि 2020-12-22.