शरमाना

विभिन्न भावनाओं के प्रति एक मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया

मनोवैज्ञानिक कारणों से एक व्यक्ति के चेहरे का लाल होना शरमाना कहलाता है। यह आमतौर पर अनैच्छिक होता है और भावनात्मक तनाव से होता है। ये खास तौर पर जुनून, शर्मिंदगी, क्रोध, या रूमानी उत्तेजना से जुड़ा हुआ है।

एक लड़की शरमाते हुए

उन लोगों का गंभीर रूप से शरमाना आम है जो सामाजिक घबराहट का सामना करते हैं जिसमें व्यक्ति सामाजिक और प्रदर्शन की स्थिति में चरम और लगातार चिंता का अनुभव करता है।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "बीमारी है आपका अत्‍यधिक शर्माना". aajtak.intoday.in. 2 मई 2009. अभिगमन तिथि 9 अक्टूबर 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें