मोटेतौर पर शिकायत या परिवेदना (Grievance) के अन्तर्गत ऐसी सभी लिखित शिकायतें आतीं हैं जो मजदूरी, भुगतान, अधिसमय कार्य, छुट्टी, स्थानांतरण, पदोन्नति, वरिष्ठता, सेवा मुक्ति, सेवा अनुबन्ध के विवेचन, कार्य की दशाओं या किसी फोरमैन, सुपरवाइजर, मशीन व औजार, कैण्टीन एवं मनोरंजन की सुविधाओं आदि से सम्बन्धित हों।

परिवेदना का विभिन्न विद्वानों ने निम्न प्रकार परिभाषित किया है :

डेल बीच के विचार से, परिवेदना ऐसे असंतोष व अन्याय की भावना है, जो कोई व्यक्ति अपने रोजगार की स्थिति में अनुभव करता है और जिसके लिए प्रबन्धक का ध्यान आकृष्ट किया जाता है।

रिचर्ड पी० कैल्हून के अनुसार, परिवेदना कोई भी ऐसी स्थिति है, जिसे कोई कर्मचारी गलत सोचता या समझता है; तथा सामान्यतया उससे कर्मचारी का भावनात्मक व्याकुलता की अनुभूति होती है।

[[श्रेणी:प्रबन्धन]