शिकारी-खाद्य संग्रहक सामाजीक व्यवस्था पुरापाषाण काल में जन्मी एक प्रकार की सामाजीक व्यस्था थी जिसमे मनुष्य छोटे समुहो में घुमते हुए खाद्य सामग्री संग्रहित करते थे। यह व्यवस्था मनुष्यो के द्वारा खेती और पशुपालन आरंभ करने के पूर्व की है। यह खाद्य सामग्री या तो पेड़ पौधो से इकठ्ठा की जाती थी अथवा पशुओ के शिकार से। अपनी प्राथमीक आवश्यकताओ को पूर्ण करने के लिये मनुष्यो ने २० लाख साल तक इस ही पद्धति का पालन किया।