शेख या अंसारी या शेख अंसारी एक अरबी उपनाम है जो पारम्परिक रूप से किसी वरिष्ठ व्यक्ति को लगाया जाता है। यह किसी कबीले के प्रधान को या प्रमुख व्यक्तियों को, इस्लाम के किसी जानकार और विद्वान आदमी को लगाया जाता है। इसको उलेमा से भ्रमित नहीं करना चाहिए। उलेमा कानूनन और आधिकारिक रूप से इस्लाम के विद्वानों को कहा जाता है। शेख़ का मतलब बड़े और इज़्ज़तदार होता है प्राचीनकाल में हर क़ाबिले का अपना नाम होता था वैसे शेख़ अरब में ही होते थे पर हिन्दुस्तान में शेख़ का लकब मोहम्मद बिन कासिम ने सिंध के राजा को हराकर अपने क़बीले को शेख़ को और जो उस के साथ अंसारी जिहादी आये थे ।उन्हें दिया था और तभी ब्रह्मान और ऋतिय भी इस्लाम अपना कर ख़ुद को शेख़ का लकब दिया ।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

दो शेख़ की तस्वीर