संगणक क्या है?संपादित करें

परिचय-संपादित करें

संगणक आज हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया है.

हर जगह आपको संगणक ( computer ) देखने को मिलता है.

कंप्यूटर का इतना ज्यादा इस्तेमाल होने के कई कारण है.

कंप्यूटर द्वारा आप कोई भी कार्य है बहुत ही जल्दी कर सकते हैं.

इसीलिए आज कंप्यूटर का इस्तेमाल इतना ज्यादा हो गया है.

इसीलिए आज कंप्यूटर में शिक्षा क्षेत्र, बैंकिंग क्षेत्र, व्यापार में, हॉस्पिटल, इत्यादि में देखने को मिलता है.

लेकिन हर किसी को नहीं पता होता कि आखिर कंप्यूटर क्या है. और कैसे काम करता है.

संगणक क्या है?संपादित करें

कंप्यूटर को सिर्फ एक लाइन में बताया जाए तो

यह एक ऑटोमेटिक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है.

जो किसी भी कार्य को बहुत ही जल्दी और कम समय में कर सकती है.

कंप्यूटर का इस्तेमाल शुरू में सिर्फ गणना करने के लिए बनाया गया था.

लेकिन इसमें जैसे-जैसे बदलाव किए गए इसमें अलग-अलग डिवाइस को जोड़ा गया तो

इसका काम और भी बेहतर और भी ज्यादा बड़ा बन गया.

कंप्यूटर को हिंदी में संगणक कहते हैं.

एक पूरे कंप्यूटर को चलाने के लिए दो चीजों की आवश्यकता होती है.

Hardware और Software online है लेकिन बहुत से लोगों को नहीं पता कि आखिर इन दोनों में क्या अंतर है.

इन दोनों में बहुत ज्यादा अंतर है यह दोनों एक दूसरे के ऊपर निर्भर होते हैं.

अगर कंप्यूटर का हार्डवेयर खराब हो जाए तो सॉफ्टवेयर किसी काम का नहीं होता.

अगर सॉफ्टवेयर खराब हो जाए तो हार्डवेयर किसी काम का नहीं होता.

Softwareसंपादित करें

इनपुट डिवाइस द्वारा डाटा एवं निर्देशों को Computer में एंटर किया जाता है.

आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली इनपुट डिवाइस Keyboard है.

कुछ अन्य इनपुट डिवाइसिस भी विकसित की गई है. जिनमें टाइपिंग की आवश्यकता नहीं होती है.

ये है: माउस, जोस्टिक, ट्रैकबॉल, लाइट पेन, ग्राफिक टैबलेट, टच स्क्रीन आदि है.

अगर आसान भाषा में कहीं तो कंप्यूटर सॉफ्टवेयर पर हम काम करते हैं.

जैसे कि Google Chrome ,Audio Player , Video Player , Game इत्यादि सभी कंप्यूटर सॉफ्टवेयर होते हैं.

जिन्हें हम सिर्फ चला सकते हैं लेकिन छू नहीं सकते.

इसी प्रकार कंप्यूटर का ऑपरेटिंग सिस्टम विंडो भी एक प्रकार का सॉफ्टवेयर ही है.

Fifth Generation (1989 से अब तक)संपादित करें

Ultra Large-Scale Integration (ULSI) यूएलएसआई, ऑप्टीकल डिस्क जैसी चीजों का प्रयोग इस पीढी में किया जाने लगा,

कम से कम जगह में अधिक डाटा स्टोर किया जाने लगा। जिससे पोर्टेबल पीसी, डेस्कटॉप पीसी, टेबलेट आदि ने इस क्षेञ में क्रांति ला दी।

इंटरनेट, ईमेल, WWW का विकास हुआ। आपका परिचय विडोंज के नये रूपों से हुआ, जिसमें विडोंज XP को भुलाया नहीं जा सकता है।

विकास अभी भी जारी है, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) पर जोर दिया जा रहा है।

उदाहरण के लिये विडोंज कोर्टाना को आप देख ही रहे हैं।

"संगणक" श्रेणी में पृष्ठ

इस श्रेणी में केवल निम्नलिखित पृष्ठ है।