मुख्य मेनू खोलें

संगीत के सात स्वरों में से पहला स्वर जो साधारणतः ‘सा’ कहलाता है। संगीत शास्त्र के अनुसार इस स्वर का उच्चारण नासा, कण्ठ, उर, तालु, जीभ और दाँतों के सम्मिलित प्रयत्न से होता है इसलिए इसका नाम षडज् (शाब्दिक अर्थ : छः से उत्पन्न) पड़ा है। प्रायः संगीतकार हमें शुरुआत में ही इस स्वर का अभ्यास कराते हैं । सा - एक शब्द ही नहीं है वरन प्राथमिक संगीत शिक्षा का सार है ।