किसी मशीन का जो भाग गति कराने, या ऊर्जा प्रवाहित करने का काम करता है, उसे संचालक या प्रवर्तक (actuator) कहते हैं। संचालक में नियन्त्रण संकेत और ऊर्जा का स्रोत दोनों ही जुड़े होते हैं। संचालक, नियन्त्रण संकेत के अनुसार ऊर्जा को कम या अधिक करने का काम करता है। उदाहरण के लिये मोटर एक संचालक है।

एक वाल्व का संचालक
वायुचालित रैक एवं पिनिअन संचालक

उदाहरणसंपादित करें

प्रकारसंपादित करें

  1. द्रवचालित (हाइड्रालिक),
  2. वायुचालित, (न्यूमैटिक),
  3. वैद्युत,
  4. ऊष्मीय या चुम्बकीय,
  5. यांत्रिक

ऊर्जा दक्षतासंपादित करें