वर्ण संतृप्ति (color saturation) किसी वर्ण के गहन, गाढ़े या शुद्ध होने के बोध को कहा जाता है।[1][2]

एक ही दृश्य के रंगों की अलग-अलग संतृप्ति वाले चित्र - अधिक संतृप्ति वाले चित्र में नीला और अन्य रंग अधिक गहन प्रतीत होते हैं

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Stan Place and Bobbi Ray Madry (1990). The Art and Science of Professional Makeup. Thomson Delmar Learning. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-87350-361-9.
  2. Josef Albers (1963). Interaction of Color. Yale University Press. ISBN 0-300-01846-0.