जो शब्द संंज्ञा या सर्वनाम का संबंध वाक्य के अन्य शब्दों के साथ बताते हैं उन्हें संबंधबोधक कहते हैं।

जो अविकारी शब्द संज्ञा, सर्वनाम के बाद आकर वाक्य के दूसरे शब्द के साथ सम्बन्ध बताए उसे संबंधबोधक कहते हैं।[1]

मेरे पीछे मेरी परछाई है।
नाकामी के सिवा हाथ कुछ नहीं लगा।
भारत के विरुद्ध खड़ी होने वाली टीम।

सन्दर्भसंपादित करें