यामीन उद् दौला नवाब सआदत अली खान (१७५२-१८१४) अवध के शासक (शासनकाल १७९८-१८१४) नवाब शुजाउद्दौला के दूसरे बेटे थे। सआदत अली खान अपने सौतेले भाई, आसफ़ुद्दौला, के बाद अवध के तख्त पर १७९८ पर बैठे।

सआदत अली खान
अवध के नवाब वज़ीर
Saadut Aly Khan.jpg
शासनावधि१७९८ - १८१४
पूर्ववर्तीमिर्ज़ा वज़ीर अली खान
उत्तरवर्तीग़ाज़ी अद् दीन रफ़ाअत अद् दौला अबू अल मुज़फ़्फ़र हैदर खान
जन्म१७५२
निधन१८१४
पूरा नाम
यामीन उद् दौला नवाब सआदत अली खान
राजवंशअवध
"क्लॉड मार्टिन का घर जिसे सआदत अली खान ने ५० हज़ार रुपए में खरीदा था

सआदत अली खान की ताजपोशी २१ जनवरी १७९८ को बिबियापुर महल, लखनऊ में सर जॉन शोर द्वारा की गई। उन्होंने १८०१ में अंग्रेज़ों को आधा अवध दे दिया।

उनका १८०५ में सर गोर औसेली द्वारा निर्मित दिलकुशा कोठी नामक एक महल भी था।[1]

नवाब सआदत अली खान १८१४ में मरे और उन्हें अपनी पत्नी 'खुरशीद ज़ादी' के साथ जुड़वाँ क़ैसरबाग़ के मकबरे में दफ़नाया गया।

उत्तराधिकार शृंखलासंपादित करें

पूर्वाधिकारी
मिर्ज़ा वज़ीर अली खान
नवाब वज़ीर अल ममालिक ए अवध
२१ जन १७९८ – ११ जुला १८१४
उत्तराधिकारी
ग़ाज़ी अद् दीन रफ़ाअत अद् दौला अबू अल मुज़फ़्फ़र हैदर खान

सन्दर्भसंपादित करें

  1. nic.in १० सितंबर २००७ को पठित