मुख्य मेनू खोलें

इसे मूल रूप से सज्जहन घर के नाम से जाना जाता था। इसे सज्जथन सिंह ने 19 वीं शताब्दी में बनवाया था। पहले यह वेधशाला के लिए जाना जाता था, लेकिन अब यह एक लॉज के रूप में तब्दील हो चुका है। लोकेशन: शहर से 8 किलोमीटर पश्‍िचम में समय: सुबह 10बजे से 6 बजे तक। सभी दिन खुला।

इस दुर्ग को उदयपुर का मुकुटमणि भी कहते है।