सत्यम् घोटाला, भारत का एक कारपोरेट घोटाला था जो सन २००९ में सामने आया था।[1] सत्यम कम्प्यूटर्स लिमिटेड के अध्यक्ष रामलिंग राजू ने २००९ में स्वीकार किया कि इस कम्पनी के खातों में झूठी प्रविष्टियाँ की गयीं थी।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Satyam scam: All you need to know about India's biggest accounting fraud". मूल से 25 सितंबर 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 अगस्त 2019.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें