मुख्य मेनू खोलें

सत्य हरिश्चंद्र भारतेन्दु हरिश्चन्द्र द्वारा लिखित चार अंकों का नाटक है। काशी पत्रिका नामक पाक्षिक हिन्दी पत्र में प्रकाशित यह नाटक पहली बार १८७६ ई. में बनारस न्यु मेडिकल हाल प्रेस में पुस्तक के रूप में प्रकाशित किया गया।

कथानकसंपादित करें

इसमें सूर्यवंशी के राजा हरिश्चन्द्र की कथा है।

अंक विभाजनसंपादित करें

  • प्रथम अंक- इन्द्रसभा
  • द्वितीय अंक- हरिश्चन्द्र की सभा
  • त्रितीय अंक- काशी में विक्रय
  • चतुर्थ अंक- श्मशान

सन्दर्भसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें