●।।प्रणाम।।●|

सहजं कर्म कौन्तेय सदोषमपि न त्यजेत् सर्वारम्भा हि दोषेण धूमेनाग्निरिवावृता अध्याय १, श्लोक ४

भगवद्गीता 18.48

किसी को कर्तव्यों का त्याग इसलिये नहीं करना चाहिए क्योंकि तुम उनमें दोष देखते हो; हर क्रिया, हर गतिविधि, दोषों से घिरी होती है जैसे आग धुएं से घिरी होती है।

भगवद्गीता 18.48

One should not abandon duties born of one’s nature, even if one sees defects in them, Every action, activity, is surrounded by defects as a fire is surrounded by smoke.

Bhagavad Gita 18.48

Sturdyankit
hi-3 यह सदस्य हिन्दी भाषा में प्रवीण है।
en-3 यह सदस्य अपने योगदान को अंग्रेजी भाषा के अग्रिम स्तर मे देने के लिए सक्ष्म है।


India tricolor icon.svg
यह प्रयोगकर्ता विकिपरियोजना भारतीय चुनाव के सदस्य है।

मेरा इंग्लिश पेज, Sturdyankit


😑Afd debate

🙄Afd nominated

😶sD templates

😋Rc

😊nU

😉sdF