मुख्य मेनू खोलें
१२वीं शती की एक पाण्डुलिपि में जोसाफेट का ईसाई चित्रण

सन्त बारलाम एवं जोसाफेट (Barlaam and Josaphat) की कहानी मूलतः गौतम बुद्ध की कहानी है जो इस्लामिक जगत से होकर ईसाई जगत में पहुंची। इस्लामी जगत में यह कथा 'बिलौहर और बुदासफ' या 'बिलावहर-व-युदासफ' नाम से मध्य इरानी भाषा में प्रचलित हुई।