मुख्य मेनू खोलें

सन्दीपन चट्टोपाध्याय (जन्म १९३३ - मृत्यु २००५) बांग्ला साहित्य के भुखी पीढी आन्दोलन के कहानी-लेखक थे। उनहोने एक मौलिक शैली बनाये जिसे स्मार्ट एवम मेट्रोपलिटन भाषा कहा जाता है। १९६१ में प्रकाशित उनके लिखे कहानी-संकलन क्रीतदास क्रीतदासी ग्रन्थ बांग्ला साहित्य में एक नया निदर्शन कायम किया। बहुत सारे नवीन कहानीकार इस ग्रन्थ के शैली को नकल करके कहानीयां लिखा क्रते थे। आमि ओ वनबिहारि ग्रन्थ के लिये उनको साहित्य अकादमी पुरस्कार से सन्मानित किया गया था। वह कोलकाता कारपोरेशन में एसेसर का काम क्रते थे एवम रिटायर करने के पश्चात आजकाल संवादपत्र से जुडे रहे। अपने साहित्यिक जीवन में उनहोने २१ उपन्यास एवम ७० कहानियां तथा अनगिनत टुकडा-लेख लिखे। बाद में वह बामपन्थी सरकार के समर्थक रहे। १९९५ में उनहें बंकिम पुरस्कार एवम २००२ में साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया।

इन्हे भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  • सन्दीपन चट्टोपाध्याय: एक विश्लेषण। अद्रीश विश्वास एवम प्रबीर चक्रबोर्ती सम्पादित। दे बुकस, बंकिम चटर्जि स्ट्रिट, कोलकाता। (२००१)

बाह्यसूत्रसंपादित करें