मुख्य मेनू खोलें

सरखेज रोजा, अहमदाबाद की खुबसुरत और पौराणिक इमारतों में से एक है।

सुल्तान अहमद शाह, जिनके नाम के उपर से शहर का नाम पडा, के शासन काल (1440-1443) के दौरान सरखेज अहमदाबाद के पास एक छोटा सा गाँव हुआ करता था। उस गाँव में एक मुस्लीम पीर शेख अहमद गट्टु गंज बक्श रहते थे। 111 साल की आयु भोगने के बाद उनका देहांत हुआ। उनकी याद में सुल्तान ने एक मकबरा बनवाया.

15वीं शताब्दी में महमूद बेगडा ने इस मकबरे के आसपास एक महल और बीच में एक झील का निर्माण करवाया.

वर्षों बाद यह किला और मकबरा जर्जर अवस्था में खत्म हो रहे थे। बाद में गुजरात सरकार और पुरातत्व विभाग ने इस स्थल का नव निर्माण किया है।

सरखेज रोज़ा घूमने के लिए एक अच्छा स्थल है। यहाँ लोग पिकनिक मनाने भी आते हैं।