सरला देवी चौधरानी

भारतीय सक्रियतावादी
सरला देवी चौधुरानी

सरला देवी चौधुरानी (९ सितम्बर १८७२ - १८ अगस्त १९४५) [1]भारत में पहली महिला संगठन की संस्थापक थी। उन्हें पंजाब की शेरनी भी कहा जाता हैं। उन्हें १९१० में इलाहाबाद में भारत स्त्री महामंडल की संस्थापक के तौर पर जाना जाता है। संगठन के प्राथमिक लक्ष्यों में से एक यह कि था महिला शिक्षा को बढ़ावा दिया जाए, जो उस समय अच्छी तरह से विकसित नहीं हुआ था। संगठन ने पूरे भारत में महिलाओं की स्थिति में सुधार के लिए लाहौर (उस समय अविभाजित भारत का हिस्सा), इलाहाबाद, दिल्ली, कराची, अमृतसर, हैदराबाद, कानपुर, बंकुरा, हजारीबाग, मिदनापुर और कोलकाता (पूर्व कलकत्ता) में कई कार्यालय खोल दिए थे। उच्च शिक्षा, सौम्य सी नज़र आने वाली सरला देवी की भाषाओं, संगीत और लेखन में गहरी रुचि थी. सरला रविंद्रनाथ टैगोर की भतीजी भी थीं। [2]

जन्मसंपादित करें

सरला देवी का जन्म १८७२ में कोलकाता में एक प्रसिद्ध बंगाली बौद्धिक परिवार में हुआ था। उनके पिता जानकीनाथ घोषाल बंगाल कांग्रेस के सबसे पूर्व सचिव थे और उनकी माँ स्वर्णकुमारी देवी बंगाली साहित्य की पहली सफल महिला उपन्यासकार थीं। १८८६ में, उन्होंने अपनी विश्वविद्यालय प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण की। १८९० में, उन्होंने बी.ए. की कलकत्ता विश्वविद्यालय से अंग्रेजी साहित्य में परीक्षा दी और पदमावती स्वर्ण पदक प्राप्त किया। १९०५ में पंडित रामभज दत्त चौधरी से उनकी शादी हुई थी।

उन्होंने गाँधी जी के साथ भी काम किया था। सरलादेवी २९ साल की थी जब मोहनदास गाँधी ने पहली बार १९०१ में उन्हें देखा था। वह एक ऑर्केस्ट्रा का आयोजन कर रही थी जिसमें उन्होंने एक गीत गाया जो उन्होंने विशेष रूप से कांग्रेस पार्टी के लिए लिखा था।[3]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 4 मई 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 जून 2020.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 4 मई 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 10 जून 2020.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 19 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 मार्च 2017.