सर्वदमन डी. बनर्जी का जन्म एक बंगाली हिन्दू ब्राह्मण परिवार में १४ मार्च १९६५ को हुआ था। उनकी पढाई सेंट अलॉयसियस स्कूल कानपूर से हुयी उसके बाद उन्होंने ‘पुणे फिल्म इंस्टिट्यूट’ से उन्होंने ग्रेजुएशन की पढाई पूरी की और फिल्मों में चले आये। टीवी पर उनके कुछ खास सीरियल इस प्रकार से हैं श्री कृष्णा, अर्जुन, जय गंगा मैया और ॐ नमः शिवाय जिनमें उन्होंने भगवान के किरदार निभाए और भलीभाँती अपनी किरदारों को साथ इन्साफ किया और वही किरदार आज उनकी ज़िन्दगी में भी दिखाई पड़ते हैं।

सर्वदमन बनर्जी
जन्म १४ मार्च १९६५
उन्नाव, उत्तर प्रदेश, भारत
आवास ऋषिकेश, उत्तराखंड, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय अभिनेता
प्रसिद्धि कारण श्री कृष्णा में कृष्ण की भूमिका निभाने हेतु
धार्मिक मान्यता सनातन धर्म
जीवनसाथी सुनीता बनर्जी

फिल्मों की शुरुवात उन्होंने १९८३ की आदि शंकराचार्य से की थीं उसके बाद वल्लभाचार्य गुरु, श्री दत्ता दर्शनम, सिरिवेनेला, स्वयम कृषि, माधावत्याना, स्वामी विवेकानंद, और पैरो में भगवान। महेंद्र सिंह धोनी के ज़िन्दगी पर आधारित फिल्म ‘एम॰ एस॰ धोनी: द अनटॉल्ड स्टोरी’ में धोनी के कोच के रूप में दिखे थे।

उनकी टीवी और फिल्मों की ज़िन्दगी की तरह उनकी निजी ज़िन्दगी भी काफी साफ़ सुथरी हैं लेकिन एक्टिंग को उन्होंने बहुत पहले ही छोड़ दिया था। उसके बाद वो शान्ति के लिए जीना शुरू कर चुके थे और ऋषिकेश की सुन्दर और हरी भरी वादियों में रहने लगे।[1]

समाजसेवासंपादित करें

अब बनर्जी हिमालयी राज्य उत्तराखंड के ऋषिकेश में रहते हैं। वो निशुल्क योग एवं मेडिटेशन क्लास चलाते हैं वो लोगों को आध्यात्म सिखाते हैं। साथ ही वो "पंख" नामकी एक संस्था से जुडे भए हैं जिसके साथ मिलकर वो गरीब बच्चों की पढ़ाई के लिए काम करते हैंं।[2][3]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "टीवी पर कृष्णा बने और वैसी ही ज़िन्दगी जी रहे हैं एक्टर सर्वदमन डी. बनर्जी। प्रेरणा से भरपूर है कहानी". boomindya.com. अभिगमन तिथि 4-09-2018. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. "'कृष्णा' बनकर पॉपुलर हुआ था ये एक्टर, ग्लैमर की दुनिया से दूर आज कर रहा ऐसा काम गर्व करेंगे आप". अमर उजाला. मूल से 4 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4-09-2018. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  3. "ये टीवी कलाकार कभी 'श्रीकृष्ण' बनकर करते थे लोगों के दिलों पर राज, अब चकाचौंध से दूर मेडिटेशन की दे रहे हैं क्लास". जनसत्ता. मूल से 4 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4-09-2018. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)

बाहरी कड़ीयाँसंपादित करें