सलमान खुर्शीद

भारतीय राजनीतिज्ञ

सलमान खुर्शीद (जन्म 1 जनवरी 1953) भारत सरकार में भूूूतपूर्व विदेश मंत्री रहे हैं पंद्रहवीं लोकसभा के मनमोहन सिंह मंत्रीमंडल में सहकारी एवं अल्पसंख्यक मामलों से संबंधित मंत्रालय में मंत्री बनाया गया है।

सलमान खुर्शीद
Salman Khurshid.jpg

पद बहाल
28 अक्टूबर 2012 – 17 मई 2014
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
पूर्वा धिकारी एस. एम. कृष्णा
उत्तरा धिकारी सुषमा स्वराज

भूतपूर्व विधि और न्याय मंत्री (भारत)
पद बहाल
28 मई 2011 – 28 अक्टूबर 2012
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह
पूर्वा धिकारी एम॰ वीरप्पा मोइली
उत्तरा धिकारी अश्वनी कुमार

जन्म 1 जनवरी 1953 (1953-01-01) (आयु 68)
अलीगढ़, भारत
राजनीतिक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
जीवन संगी लुईस खुर्शीद
शैक्षिक सम्बद्धता सेंट स्टीफ़न कॉलेज, दिल्ली
ऑक्सफ़र्ड विश्वविद्यालय

सलमान खुर्शीद एक भारतीय राजनीतिज्ञ, नामित वरिष्ठ अधिवक्ता, प्रख्यात लेखक और कानून शिक्षक हैं। वह विदेश मंत्रालय के कैबिनेट मंत्री थे। वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से संबंधित हैं वह एक वकील और एक लेखक है [1] जो 2009 की आम चुनाव में फर्रुखाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए। इससे पहले वह फर्रुखाबाद लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से 10 वीं लोकसभा (1991-1996) के लिए चुने गए थे। वह जून 1991 में वाणिज्य के केंद्रीय उप मंत्री बने, और बाद में विदेश मामलों के राज्य मंत्री (जनवरी 1993 - जून 1996) बन गए। उन्होंने 1981 में प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) में एक विशेष अधिकारी के रूप में इंदिरा गांधी के प्रधान मंत्री के तहत अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की।

लेखनसंपादित करें

खुर्शीद दिल्ली और ऑक्सफोर्ड में अपने छात्र जीवन से ही नाटकों में लेखन और अभिनय में गहराई से शामिल रहे हैं। वह रूपा एंड कंपनी द्वारा प्रकाशित नाटक सन्स ऑफ बाबर के लेखक हैं, जिसका मंचन टॉम ऑल्टर के साथ दिल्ली के लाल किले में किया गया है।

सलमान खुर्शीद 1990 में प्रकाशित "द कंटेम्पररी कंजर्वेटिव: सिलेक्टेड राइटिंग्स ऑफ धीरेन भगत"[2] के संपादक भी रह चुके हैं।

अक्टूबर 2021 में, खुर्शीद ने अयोध्या विवाद के आसपास धर्मनिरपेक्षता में भारत की गिरावट के बारे में लिखते हुए, सनराइज ओवर अयोध्या: नेशनहुड इन अवर टाइम्स प्रकाशित किया।[3][4] भाजपा नेताओं ने किताब का एक अंश साझा किया और खुर्शीद के हिंदुत्व और कट्टरपंथी इस्लामी समूहों के बीच समानता लाने के प्रयास के बारे में विवाद खड़ा कर दिया। विवाद के परिणामस्वरूप उनके नैनीताल के घर में तोड़फोड़ की गई और आग लगा दी गई।[5][6]

हिंदू सेना के अध्यक्ष विशु गुप्ता द्वारा दायर एक मुकदमा, सनराइज ओवर अयोध्या: नेशनहुड इन अवर टाइम्स पुस्तक के प्रकाशन, प्रसार और बिक्री को रोकना चाहता है।[7] दिल्ली की अदालत ने 18 नवंबर 2021 को मुकदमे में एकपक्षीय निषेधाज्ञा देने से इनकार कर दिया। अदालत ने कहा, "इस अदालत की राय में, न तो प्रथम दृष्टया मामला है और न ही वादी के पक्ष में अंतरिम पूर्व-पक्षीय निषेधाज्ञा देने के लिए कोई असाधारण परिस्थिति मौजूद है।

न्यायाधीश ने कहा, "इसके अलावा, वादी यह स्थापित करने में विफल रहा है कि सुविधा का संतुलन उसके पक्ष में है। इसलिए, इस स्तर पर अंतरिम एकतरफा राहत के लिए प्रार्थना को अस्वीकार कर दिया गया है।"

अदालत ने कहा कि लेखक और प्रकाशक को किताब लिखने और प्रकाशित करने का अधिकार है।" [8]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "External affairs minister". 20 January 2013. मूल से 25 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 जुलाई 2017.
  2. "Amazon.com: The Contemporary Conservative: Selected Writings of Dhiren Bhagat: Ed. Salman Khurshid Dhiren Bhagat: Books". web.archive.org. 2008-05-26. अभिगमन तिथि 2021-11-18.
  3. "सनराइज ओवर अयोध्या: Salman Khurshid ने हिंदुत्व के बारे में क्या लिखा, जिस पर मचा है राजनीतिक बवाल". आज तक. अभिगमन तिथि 2021-11-18.
  4. "Congress leader Salman Khurshid compares Hindutva to ISIS, Boko Haram in his new book". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-11-18.
  5. "PHOTOS: सलमान खुर्शीद के किताब पर नहीं थम रहा विवाद, लोगों ने घर में लगाई आग". आज तक. अभिगमन तिथि 2021-11-18.
  6. DelhiNovember 15, India Today Web Desk New; November 15, 2021UPDATED:; Ist, 2021 22:52. "Salman Khurshid: If you want to see what Hindutva does, see the burnt door in my Nainital home". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-11-18.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)
  7. DelhiNovember 15, India Today Web Desk New; November 15, 2021UPDATED:; Ist, 2021 16:28. "Ban Salman Khurshid's new book, take legal action against him: BJP MLA in letter to Amit Shah". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-11-18.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)
  8. DelhiNovember 18, Press Trust of India New; November 18, 2021UPDATED:; Ist, 2021 07:06. "Delhi court refuses to stop publication, circulation, sale of Salman Khurshid's Ayodhya book". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-11-18.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)