सहदेव

महाकाव्य महाभारत के पात्र

सहदेव महाभारत में पाँच पांडवों में से एक और सबसे छोटे थे। वह माता माद्री के असमान जुड़वा पुत्रों में से एक थे, जिनका जन्म देव चिकित्सक अश्विनों के वरदान स्वरूप हुआ था। जब नकुल और सहदेव का जन्म हुआ था तब यह आकाशवाणी हुई की, ‘शक्ति और रूप में ये जुड़वा बंधु स्वयं जुड़वा अश्विनों से भी बढ़कर होंगे।’ सहदेव त्रिकालदर्शी थे वे परशु अस्त्र के निपुण योद्धा थे।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें