सामर्रा के महान मस्जिद; इराक के सामर्रा शहर में स्थित नौवीं सदी की मस्जिद है। मस्जिद का निर्माण अब्बासी खलीफा मुतावक्किल ने 851 ईस्वी कराया था खलीफा मुतावक्किल ने 847 से 861 ईस्वी तक सामर्रा में शासन किया था।

समर्रा की महान मस्जिद
Great Mosque of Samarra
Samara spiralovity minaret rijen1973.jpg
समर्रा मस्जिद की मीनार
समर्रा की महान मस्जिद Great Mosque of Samarra की अवस्थिति दिखाता मानचित्र
समर्रा की महान मस्जिद Great Mosque of Samarra की अवस्थिति दिखाता मानचित्र
अवस्थितिसामर्रा, इराक
निर्देशांक34°12′21″N 43°52′47″E / 34.20583°N 43.87972°E / 34.20583; 43.87972निर्देशांक: 34°12′21″N 43°52′47″E / 34.20583°N 43.87972°E / 34.20583; 43.87972
स्थापित848 ईस्वी

इतिहाससंपादित करें

सामरा की महान मस्जिद एक समय के लिए, दुनिया की सबसे बड़ी मस्जिद थी; इसकी मीनार, (माल्विया टावर), घुमाव आकार (सर्पिल रैंप) .[1] के साथ 52 मीटर (171 फीट) ऊंची है। जिस कारण अल-मुतावक्किल के शासन का शहर पर बहुत प्रभाव पड़ा, क्योंकि वह वास्तुकला का प्रेमी और समारा के महान मस्जिद के निर्माण के लिए जिम्मेदार था। अपनी इमारत परियोजनाओं की एक सूची में कई अलग-अलग संस्करणों में प्रकट होता है खलीफा मुतावक्किल ने अपने शासनकाल के दौरान अनेक मस्जिद का निर्माण कराया था।

मंगोल आक्रमणसंपादित करें

1278 (658 हिजरी) ईस्वी में मंगोल शासक हलाकू खान के इराक पर आक्रमण के दौरान मस्जिद को नष्ट कर दिया गया था। केवल बाहरी दीवार और इसकी मीनार ही बची थी।

सन्दर्भसंपादित करें