मुख्य मेनू खोलें

सामा-चकेवा मिथिला में बहन के द्वारा भाई की मंगल कामना और उसका पौरूष गान परंपरागत स्वर से किया जाता है। जिसमें मिट्टी से अनेक प्रकार के मुर्तियों का निर्माण किया जाता है। और उसका स्वर से गुणगान किया जाता है। यह एक लोक नृत्य है।