हेंडपंप, कुँआ, बोरवेल या दैनिक उपयोग मे अनावश्यक बहने वाले जल को संचय करने हेतु सोक पीट या सोखता गड्ढा का निर्माण करके उस गंदे पानी का जमीन मे सोखकर भूगर्भ मे पानी जाकर पानी की मात्रा बढ़ाने मे मदद करती है। यह बहुत ही आसानी से बनाया जाता है।पर्यावरण को बनाए रखने मे सोखपिट कारगार साबित होता है।

एक पुराना सिक्तन गर्त

स्वास्थय पहलूसंपादित करें

सोखपीट यह तकनीक भूमिगत स्थित है और इस प्रकार, मनुष्यों और जानवरों का अपशिष्ट के साथ कोई संपर्क नहीं होना चाहिए। सोख गड्ढे गंधहीन और दृश्यमान नहीं होते हैं, इसके उपयोग से गंदंगी,बदबू, एवं गंदे पानी से कीड़ों ,मच्छर आदि का ठहराव से झुटकरा मिल रहा है और पानी का संचय करके से पर्यावरण को बचाने का कार्य किया जा सकता है ।

सोक पीट बनाने का विधी:

जहां व्यर्थ पानी बहता है उस स्थान पर लंबाई-1 मी.X चौड़ाई-1 मी.X गहराई-1 मी.का गड्ढा खोदें |आप आवश्यकता के अनुसार गहराई बड़ा सकते है ।ध्यान रहे ही जितनी गहराई होगी उतनी सामाग्री ।इस गड्ढे मे सबसे पहले गड्ढे के अंदर 20 से.मी रेत डालें ।रेत की परत के बाद 20 से.मी तक ईट के टुकड़े डाले|फिर से रेत 20 से.मी डाले एवं पुन: 20 से.मी रेत,20 से.मी ईट के टुकड़े,एवं 20 से.मी रेत डालें ।और व्यर्थ बहने वाले पानी की नाली को गड्ढे से जोड़ दें ।भूजल तालिका के ऊपर 2 मीटर से कम कभी नहीं होना चाहिए। यह पीने के पानी के स्रोत (आदर्श रूप से 30 मीटर से अधिक) से सुरक्षित दूरी पर स्थित होना चाहिए। भिगोने वाले गड्ढे को उच्च-यातायात क्षेत्रों से दूर रखा जाना चाहिए ताकि ऊपर और उसके आसपास की मिट्टी जमा न हो।

रखरखावसंपादित करें

एक अच्छी तरह से आकार के सोख गड्ढे रखरखाव के बिना 3 और 5 साल के बीच रहना चाहिए। सोख गड्ढे के जीवन का विस्तार करने के लिए, यह सुनिश्चित करने के लिए ध्यान रखा जाना चाहिए कि ठोस के अत्यधिक निर्माण को रोकने के लिए प्रवाह को स्पष्ट या फ़िल्टर किया गया है। कण और बायोमास अंततः गड्ढे को बंद कर देंगे और इसे साफ करने या स्थानांतरित करने की आवश्यकता होगी। जब सोख गड्ढे का प्रदर्शन बिगड़ जाता है, आवश्यकता अनुसार सोख गड्ढे के अंदर की सामग्री को खुदाई और फिर से भरा जा सकता है।

संदर्भसंपादित करें

https://web.archive.org/web/20190910173648/https://en.wikipedia.org/wiki/Dry_well

https://web.archive.org/web/20180902070947/http://learningwhiledoing.in/InnerPages/LessonDetails.aspx?LessonId=41&Category=Books%20&SubCategory=Hindi%20Books&CategoryId=12&Title=IBT%20Energy%20and%20Envoirment%20Hindi%20Book%20PDF

https://hindi.indiawaterportal.org/content/bhauujala-sancayana-paunarabharana-evan-parabandhana/content-type-page/1319335236