सिरिल जॉन रेडक्लिफ़ (Cyril John Radcliffe; ३० मार्च १८९९ – १ अप्रैल १९७७) ब्रितानी वकील और जज थे[1] जो मुख्यतः ब्रितानी भारत के विभाजन में योगदान के लिए जाने जाते हैं। वो वार्विक विश्वविद्यालय के प्रथम कुलपति (१९६५ से १९७७ तक) रहे।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "सरहदों का खिंचना". बीबीसी हिन्दी. मूल से 18 अगस्त 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १६ अगस्त २०१७.