सुखसागर, मुंशी सदासुखलाल द्वारा रचित एक हिन्दी ग्रन्थ है जो खड़ी बोली की प्रारम्भिक कृतियों में से एक है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें