भौतिकी और पदार्थ विज्ञान में, सुघट्यता किसी पदार्थ का वह गुण है जो उस विरुपण की व्याख्या करती है जो उस पदार्थ पर आरोपित बलों के फलस्वरूप उसकी आकृति में आये अप्रतिवर्ती परिवर्तन के कारण होता है। जब वस्तु पर प्रत्याशा सीमा से अधिक बल बढ़ाया जाता है तो वस्तु बल हटाने पर अपनी पूर्व अवस्था में नहीं आती बल हटाने पर इसमें कुछ न कुछ विरूपण जरूर रह जाता है वस्तु की इस अवस्था को सुगठी अवस्था कहते हैं इस गुण को घटता कहते हैं

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें