सर सुन्दर लाल (21 मई 1857 - 13 फ़रवरी 1918) भारत के न्यायविद तथा शिक्षाशास्त्री थे। वे इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रथम भारतीय कुलपति तथा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रथम कुलपति थे। हिन्दी शब्दसागर के निर्माण के निर्माण के लिए १००० रूपए की सहयोग राशि सबसे पहले सर सुन्दरलाल ने ही प्रदान की थी।

इसमें से सबसे पहले १०००) स्वर्गीय माननीय सर सुंदरलाल सी० आई० ई० ने भेजे थे । तय तो यह है कि यदि प्रार्थना करते ही उक्त महानुभाव तुरन्त १०००) न भेज देते तो सभा का कभी इतना उत्साह न बढ़ता और बहुत संभव था कि कोश का काम और कुछ समय के लिये टल जाता। परन्तु सर सुंदरलाल से १०००) पाते ही सभा का उत्साह बहुत अधिक बढ़ गया और उसने और नई तत्परता से कार्य करना आरम्भ किया।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "प्रथम संस्कारण की भूमिका". मूल से 11 फ़रवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मार्च 2020.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें