सुल्तान सतुक बुग़रा खान

काराख़ानी ख़ानत राज वंश का शासक

सुल्तान सतुक बुग़रा खान (जन्म:920 – मृत्यु:956), (अंग्रेज़ी:Sultan Satuq Bughra Khan) काराख़ानी ख़ानत राज वंश का शासक था। तुर्क लोग में पहला शासक था जिसने तेन्ग्री धर्म से इस्लाम धर्म अपनाया था।

सुल्तान सतुक बुग़रा खान
शासनावधि942-955 (या 958)
निधनएएच 344 (955/956)

अबू-अल-फ़ुतह अब्द द्वारा 11 वीं शताब्दी के पहले के पाठ, तारिख-ए काशघर (काशगर का इतिहास) और "तज़किरा बुगरा खान" के अनुसार सतुक ने बारह वर्ष की उम्र में इस्लाम धर्म अपना लिया था। बुखारा के एक समानी व्यापारी, अबू अन -नस्र ने उन्हें इस्लाम के बारे में पढ़ाया था।[1] [2]

मृत्युसंपादित करें

 
मज़ारसतुक़ बुग़रा खान

जमाल क़ार्शी के अनुसार सतुक़ बुग़रा खान की मृत्यु 955 में हुई थी, और उन्हें एक मजार में दफनाया गया था जिसे आज भी आर्टक्स में देखा जा सकता है। इसे 1995 में उइघुर वास्तुकार अबुदुरीम आशान द्वारा बहाल किया गया था। [12]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. András Róna-Tas, Hungarians & Europe in the Early Middle Ages: An Introduction to Early Hungarian, (Central European University Press, 1999), 256.
  2. Svat Soucek, A History of Inner Asia, (Cambridge University Press, 2002), 84.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सुल्तान मुज़फ्फर शाह प्रथम

उज़बेक खान

अलाउद्दीन तारमाशीरीं