मुख्य मेनू खोलें

उत्तरी सेण्टिनली अण्डमान द्वीपसमूह के उत्तरी सेन्टीनल द्वीप की एक आदिवासी जनजाति है। ये एक शिकारी-फ़रमर समाज है जो शिकार करके, मछली पकड़ कर, और जंगली पौधों एकत्रित कर के रहता है। इस जनजाति में अभी तक खेती-बाड़ी या आग उत्पादन नहीं देखा गया है।[1] इनकी भाषा अवर्गीकृत बनी हुई है क्योंकि इनके सबसे निकटतम पड़ोसी जारवा लोग भी इनकी भाषा को नहीं समझ सकते हैं।[2]

निवास क्षेत्रसंपादित करें

बस्तियांसंपादित करें

2001 की जनगणना के मुताबिक इस द्वीप की जनसंख्या लगभग 40 है। माना जाता है कि 40 से 500 व्यक्तियों के बीच एक असंबद्ध लोग, 60,000 साल से उत्तरी सेंटिनल द्वीप पर रहता है और सेंटिनेल भाषा बोलता है।

भोजनसंपादित करें

भोजन के लिये ये लोग शिकार पर निर्भर है |‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‌‍‌‌‌‌‍‍‌‌‌‌‍‍‍‌‌‌‌‍‍‌‌‌‌‍‌‌‌‌‌‌‌‌‌ क्यूकी यहाँ अभी तक आग के कोई सुराग नही देखे गये।

वस्त्रसंपादित करें

ये लोग वस्त्र के लिये पेड़ के पतों का इस्तेमाल करते हैं । और शरीर पर टैटूके निशान भी देखे गए हैं ।

समाजसंपादित करें

ये लोग अक्सर एक झुंड में रहना पसंद करते हैं ।


  =={सन्दर्भो}}==
  1. B. K. Roy Burman, संपा॰ (1990). Cartography for development of outlying states and islands of India: short papers submitted at NATMO Seminar, Calcutta, December 3–6, 1990. National Atlas and Thematic Mapping Organisation, Ministry of Science and Technology, Government of India. पृ॰ 203. OCLC 26542161.
  2. Enumeration of Primitive Tribes in A&N Islands: A Challenge. (Report). "The first batch could identify 31 Sentinelese. The second batch could count altogether 39 Sentinelese consisting of male and females adults, children and infants. During both the contacts the enumeration team tried to communicate with them through some Jarawa words and gestures, but, Sentinelese could not understand those verbal words."